चीन पर अंकुश लगाने के लिए अमेरिका को भारत की जरूरत: US थिंक टैंक


नई दिल्ली (23 जून): अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप चीन के साथ दोस्ती बढ़ाने की कोशिश में हैं। इस बीच अमेरिका के शीर्ष थिंक टैंक ने ट्रंप को भारत को अधिक तरजीह देने की सलाह दी है। अमेरिका के एक शीर्ष थिंक टैंक ने कहा है कि ट्रम्प प्रशासन जहां चीनियों के साथ निकटता बढ़ा रही है वहीं दुनिया में चीन के बढ़ते प्रभाव पर अंकुश लगाने के लिए उसे भारत की जरूरत होगी।


अमेरिका के लिए भारत को 'बेहद अहम' बताते हुए ऐटलैंटिक काउंसिल ने ट्रंप प्रशासन से कहा कि चीन के बढ़ते प्रभाव को रोकने के लिए अमेरिका को भारत की जरूरत होगी।


प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अमेरिका यात्रा से पहले अमेरिका के शीर्ष थिंक टैंक 'ऐटलैंटिक काउंसिल' ने अपने पॉलिसी पेपर 'ट्रांसफॉर्मिंग इंडिया फ्रॉम अ बैलेंसिंग टू लीडिंग पावर' में कहा, 'चीन ने आर्थिक और सैन्य दोनों मोर्चों पर प्रगति की है, इस बात को देखते हुए अमेरिका को अपने वैश्विक और क्षेत्रीय प्रभुत्व सुनिश्चित करने के लिए वहां अपने संसाधन लगाने की आवश्यकता है।'


पॉलिसी पेपर को पूर्व केंद्रीय मंत्री मनीष तिवारी और साउथ एशिया सेंटर ऑफ द ऐटलैंटिक काउंसिल के निदेशक भारत गोपालस्वामी ने संयुक्त रूप से लिखा है। इसमें कहा गया है कि ट्रंप को यह भरोसा देने की जरूरत है कि भारत केवल पेइचिंग के पावर को बैलेंस करने के लिए क्षेत्रीय सहारा नहीं है, बल्कि अमेरिकी विदेश नीति में सर्वोच्च प्राथमिकता पर है।


उन्होंने लिखा कि 7.5 बिलियन डॉलर की मदद, अगर स्वीकृत हो जाती है, भारत-अमेरिका संबंधों को आने वाले वर्षों में बढ़ाने के लिए आरंभिक बिंदू हो सकती है।