US की UN को चेतावनी- जिम्मेदारी नहीं निभाई, तो हम खुद करेंगे कार्रवाई


नई दिल्ली(6 अप्रैल):  अमेरिका ने संयुक्त राष्ट्र के रोल पर सवाल उठाए हैं। संयुक्त राष्ट्र में गुरुवार को अमेरिका ने कहा कि अगर सीरिया में हुए केमिकल अटैक पर कोई कार्रवाई नहीं की गई तो वह अपने स्तर पर आगे बढ़ सकता है। यूएन सिक्युरिटी काउंसिल की मीटिंग में अमेरिकी राजदूत निक्की हेली ने इस हमले का जिक्र किया।


- सीरिया को लेकर सुरक्षा परिषद की एक बैठक के दौरान हेली ने कहा, 'जब संयुक्त राष्ट्र लगातार अपनी जिम्मेदारी पूरी करने में नाकाम साबित होता है, तो कई मौके ऐसे आते हैं जब अमेरिका अपने स्तर पर कार्रवाई करने को मजबूर हो जाता है।'


- हेली ने यह भी कहा कि जबतक रूस शह देना बंद नहीं करता है, तब तक असद इस तरह के रसायनिक हमले बंद नहीं करेंगे।


- मालूम हो कि सीरिया के इडलिब प्रांत में मंगलवार को हुए एक रसायनिक हमले में 75 लोग मारे गए हैं। बड़ी संख्या में बच्चे इस हमले से प्रभावित हुए हैं। इन्हीं हमलों के मद्देनजर UN में सुरक्षा परिषद की एक आपातकालीन बैठक बुलाई गई थी।


- उधर राष्ट्रपति डॉनल्ड ट्रंप ने सीरिया में हुए रसायनिक हमले पर प्रतिक्रिया करते हुए कहा कि मंगलवार को सीरिया के नागरिकों पर हुआ यह हमला 'कई सीमाओं को लांघ' चुका है।


- ट्रंप ने यह भी कहा कि इस हमले के बाद बशर अल-असद की सत्ता के प्रति उनका नजरिया पूरी तरह से बदल गया है। ट्रंप ने जिस समय यह बयान दिया, उस समय जॉर्डन के सुल्तान किंग अब्दुल्ला उनके साथ ही वाइट हाउस में मौजूद थे। किंग अब्दुल्ला अमेरिका दौरे पर आए हुए हैं। ट्रंप ने इस हमले को इंसानियत पर किया गया हमला बताया। वाइट हाउस के प्रेस सचिव सीन स्पाइसर ने भी कहा कि इस घटना के बाद सीरिया को लेकर अमेरिका के रुख में तब्दीली आएगी। स्पाइसर ने कहा कि इस हमले की शक्ल में असद सरकार की नई सच्चाई अमेरिका के सामने आई है।


- यह पूछे जाने पर कि क्या असद सरकार द्वारा अपने ही नागरिकों के खिलाफ रसायनिक हथियारों का इस्तेमाल करना नए अमेरिकी प्रशासन की नजर में 'सीमा का उल्लंघन' है, ट्रंप ने जवाब दिया, 'मेरे लिए यह घटना कई तरह की सीमाओं का उल्लंघन है। जब आप बेगुनाह बच्चों को मारते हैं, तो आप कई सीमाएं लांघते हैं।' ट्रंप ने कहा, 'सीरिया में बच्चों के ऊपर किया गया रसायनिक हमले का मुझपर बहुत गहरा असर पड़ा है। सीरिया और असद सरकार के प्रति मेरा रवैया बदल गया है।' इस घटना से पहले ट्रंप ने कई बार कहा था कि सीरिया की असद सरकार को हटाना उनके लिए प्राथमिकता नहीं है। ट्रंप ने कहा था कि असद को हटाने से कहीं ज्यादा वरीयता इस्लामिक स्टेट (ISIS) का खात्मा करना है।