आलोचना के बाद इस यूनिवर्सिटी को हटाना पड़ा चीयरलीडर्स का 'सेक्सिस्ट' पोस्टर

नई दिल्ली (29 अप्रैल): यूनिवर्सिटी ऑफ वाशिंगटन को अपने चीयरलीडिंग स्क्वैड के एक पोस्टर को तीखी प्रतिक्रिया के बाद हटाना पड़ा। इस ग्राफिक की आलोचना करते हुए तमाम लोगों ने इसे 'सेक्सिस्ट' और 'स्त्रीद्वेषी' बताया है।

ब्रिटिश अखबार 'द इंडिपेंडेंट' की रिपोर्ट के मुताबिक, चीयरलीडिंग फ्लायर में एक 'श्वेत' महिला को फीचर किया गया था। जिसके सुनहरे बाल हैं। साथ ही इस टीम में शामिल होने के लिए क्या करना चाहिए, इस बारे में सुझाव दिए गए हैं। पोस्टर पर जितने निर्देश दिए गए उनसे ज्यादा काफी निराश प्रतिक्रियाएं आईं हैं।  

यूनिवर्सिटी की एक छात्रा जैसमीन पेरेज़ ने कहा, "मुझे यकीन नहीं हो रहा कि यह सच है। एक चीज़ जो दिमाग में आती है, वह पश्चिमी ब्यूटी का ऑब्जेक्टिफिकेशन और उसे एक आदर्श के तौर पर पेश करना है। ये ऐसे मूल्य हैं, जिन्हें यूनिवर्सिटी प्रसारित नहीं करना चाहती। इस पोस्टर में दिखने वाली स्टूडेंट कहीं से भी स्टूडेंट नहीं लगती। यह बेहद अलग है।"

इस पोस्टर पर कैम्पस से ही नहीं बल्कि कई दूसरी जगहों से भी प्रतिक्रियाएं आई हैं। एक बयान में यूनिवर्सिटी के वाशिंगटन एथलीट्स के अधिकारियों ने बताया कि उन्होंने इस ग्राफिक को स्टूडेंट्स की तरफ से काफी संख्या में पूछे गए सवालों के जबाब में बनाया गया था। जो चीयर और डांस टीम्स के संबंध में थे।"

"इसे डिपार्टमेंट ने तब हटा दिया, जबकि इसकी कुछ सूचनाएं असंगत और यूनिवर्सिटी के स्पिरिट प्रोग्राम के मूल्यों के खिलाफ पाई गईं।"