भारत के इस कदम में अमेरिका ने दिया साथ, चीन और पाक विरोध में उतरे

वाशिंगटन (14 मई): भारत को परमाणु आपूर्तिकर्ता समूह (NSG) में एंट्री दिलवाने के लिए अमेरिकी विदेश विभाग के प्रवक्ता जॉन किर्बी ने सपोर्ट किया है। हालांकि एनएसजी की सदस्यता के भारत के प्रयास का चीन और पाकिस्तान की ओर से संयुक्त रूप से विरोध किया गया है।

अमेरिकी विदेश विभाग के प्रवक्ता जॉन किर्बी ने कहा, 'मैं आपको उस बिंदु की ओर ले जाना चाहता हूं, जो राष्ट्रपति ने साल 2015 के अपने भारत दौरे के समय रखा था। जहां उन्होंने इस बात पर जोर दिया था कि अमेरिका की राय है कि भारत मिसाइल प्रौद्योगिकी नियंत्रण व्यवस्था की जरूरतों को पूरा करता है और एनएसजी की सदस्यता के लिए तैयार है।''

उनका बयान उन खबरों के संदर्भ में पूछे गए सवाल के जवाब में आया जिनमें कहा गया था कि एनएसजी की सदस्यता के भारत के प्रयास का विरोध करने के लिए चीन और पाकिस्तान ने हाथ मिला लिया है। किर्बी ने कहा, 'मैं आपको कहूंगा कि भारत की सदस्यता के बारे में चीन और पाकिस्तान की सरकारों के रूख को लेकर आप उनसे सवाल करिए।'

आपको बता दें कि इससे पहले चीन ने यह कहते हुए भारत का विरोध किया था कि अगर एनएसजी में पाकिस्तान को एंट्री नहीं मिलती तो भारत को भी नहीं मिलनी चाहिए। भारत ने एनएसजी में एंट्री के लिए एप्लिकेशन दी है।