नॉर्थ कोरिया की कैद से छूटे अमेरिकी छात्र की मौत


नई दिल्ली(20 जून): नॉर्थ कोरिया की कैद में रहे 22 साल के एक अमेरिकी छात्र की मौत हो गई है। बता दें ये छात्र नॉर्थ कोरिया की कैद से कोमा की हालत में छूटा था। ऑटो वॉर्मवियर नाम के इस छात्र के मौत की की घोषणा उसके परिवार ने की है।


- यूसी हेल्थ सिस्टम द्वारा जारी बयान में उसके परिवार की ओर से कहा गया है, 'दुख के साथ हमें बताना पड़ रहा है कि हमारे बेटे ऑटो वॉर्मबियर ने अपने घर तक की यात्रा पूरी कर ली थी। अपने प्रियजनों से घिरे ऑटो की 2.20 बजे मौत हो गई।'


- छात्र के परिवार ने इलाज के लिए यूनिवर्सिटी ऑफ सिनसनैटी मेडिकल सेंटर को धन्यवाद कहा है। उनकी ओर से जारी बयान में कहा गया, 'दुर्भाग्यपूर्ण रूप से उत्तरी कोरिया के हाथों मेरे बेटे को जिस दर्दनाक गलत व्यवहार से गुजरना पड़ा, उससे आज हम जो दुखद अनुभव का सामना कर रहे हैं, उसके सिवा कोई और नतीजा संभव नहीं हुआ।'


- वॉर्मबियर को उत्तरी कोरिया में 15 साल कैद की सजा सुनाई गई थी। उस पर विनाशकारी गतिविधि में संलिप्त होने का आरोप लगा था। छात्र ने रोते हुए कबूल किया था कि उसने एक प्रॉपेगैंडा बैनर को चुराने की कोशिश की थी। यूनिवर्सिटी ऑफ वर्जिनिया के छात्र को 17 महीने से अदिक समय तक जेल में रखा गया और पिछले हफ्ते इलाज के लिए उत्तरी कोरिया से लाया गया था।


- डॉक्टरों ने बताया कि छात्र जब लौटा तो वह बुरी तरह ब्रेन डैमेज का शिकार था लेकिन पता नहीं लग पाया कि यह कैसे हुआ। उत्तरी कोरिया वॉशिंगटन और दक्षिणी कोरिया पर अपनी सरकार को सत्ता से बेदखल करने के लिए जासूसों को भेजने का आरोप लगाता है।