अमेरिका जाना हुआ और मुश्किल, देनी होगी सोशल मीडिया अकाउंट्स की जानकारी


नई दिल्ली(5 मई): अमेरिका के लिए वीजा आवेदन करने वाले कुछ लोगों से उनके सोशल मीडिया अकाउंट्स की जानकारियां मांगी गई हैं। यूएस स्टेट डिपार्टमेंट इन लोगों के सोशल मीडिया बर्ताव, ईमेल एड्रेस और फोन नंबर्स की जांच करना चाहता है।


- बता दें कि अमेरिका आने वाले लोगों पर कड़ी नजर रखने के ट्रंप प्रशासन की पहल के तहत इस तरह के कदम उठाए जा रहे हैं।


- गुरुवार को स्टेट डिपार्टमेंट की ओर से जारी नोटिस में कहा गया कि इस मुद्दे पर आम लोगों की राय मांगी गई है। हालांकि, नोटिस में यह भी कहा गया है कि इस योजना को अस्थाई तौर पर अमली जामा पहनाने के लिए वाइट हाउस बजट ऑफिस से रजामंदी मांगी गई है ताकि आने वाले 180 दिनों में इसे लागू किया जा सके। आम लोगों की राय जो हो, लेकिन शुरुआत 18 मई से हो जाएगी।


- प्रस्तावित जानकारियां उन वीजा आवेदकों से मांगी जाएंगी, जिनकी पहचान अतिरिक्त ऐहतियात बरते जाने वाली कैटिगरी के तहत किया गया है। मसलन-वे लोग जो आतंकियों के नियंत्रण वाली जगहों की यात्रा कर चुके हैं। अमेरिकी स्टेट डिपार्टमेंट के अंदाजे के मुताबिक, अमेरिका के लिए वीजा आवेदन करने वाले कुल लोगों में से सिर्फ 0.5 पर्सेंट लोगों पर इन नियमों का असर पड़ेगा। एक सामान्य आकलन के मुताबिक, ऐसे लोगों की संख्या करीब 65 हजार होगी।


- इन नियमों के दायरे में आने वाले लोगों को बीते पांच साल के दौरान इस्तेमाल किए गए सोशल मीडिया हैंडल्स और प्लैटफॉर्म्स की जानकारी देनी होगी। इस दौरान इस्तेमाल किए गए सारे फोन नंबर्स और ईमेल पतों की भी जानकारी शेयर करनी होगी। हालांकि, स्टेट डिपार्टमेंट के नोटिस के मुताबिक, सोशल मीडिया अकाउंट्स के पासवर्ड नहीं मांगे जाएंगे और न ही आवेदकों के सोशल मीडिया अकाउंट के प्रिवेसी नियमों को तोड़ने की कोशिश की जाएगी। बता दें कि पिछले साल, अमेरिकी इमिग्रेशन अधिकारियों ने यूएस बॉर्डर चेक पॉइंट्स पर आने वाले कुछ विदेशियों से सोशल मीडिया की जानकारी मांगी थी। हालांकि, उस वक्त वीजा आवेदनों के लिए इस तरह की जानकारी शेयर करना जरूरी नहीं था।


- नए नियमों के मुताबिक, वीजा आवेदकों को बीते 15 साल के दौरान किए गए सफर और कामकाज का इतिहास शेयर करना होगा। इसके अलावा, भाई-बहन-बच्चों, वर्तमान और पूर्व पति-पत्नी व पार्टनर आदि के बारे में भी बताना होगा। फिलहाल सिर्फ पांच साल के सफर और कामकाज की जानकारी मांगी जाती है। हालांकि, परिवार और घरवालों से जुड़ी जानकारियां नहीं मांगी जातीं। स्टेट डिपार्टमेंट ने कहा कि उसे अतिरिक्त जानकारी सिर्फ इसलिए चाहिए ताकि 'आतंकवाद या दूसरे राष्ट्रीय सुरक्षा संबंधित कारणों से वीजा रद्द करने के मानकों के आधार पर वीजा आवेदनों की सख्ती से समीक्षा की जा सके।'