तीसरा विश्व युद्ध, ट्रंप ने ली सबसे लड़ाई मोल

नई दिल्ली ( 5 फरवरी ): डोनाल्ड ट्रंप प्रशासन ने मिसाइल परीक्षणों को लेकर ईरान के खिलाफ नए प्रतिबंध लगाने की घोषणा की है। अमेरिका ने दो दर्जन से अधिक ईरानी इकाइयों पर प्रतिबंध लगा दिए हैं। उसके बाद ट्रंप ने रूस और इजरायल पर भी सख्त रुख दिखाया है। ट्रंप प्रशासन ने इसके पहले इरान को औपचारिक तौर पर 'नोटिस' पर रखा था। ड्रोनाल्ड ट्रंप ने टि्वटर पर कहा कि इरान आग से खेल रहा है। वे मानते नहीं हैं कि राष्ट्रपति ओबामा उनके प्रति कितने दयालु थे। मैं नहीं हूं।

इरान पर बैन के कुछ घंटों बाद अमेरिकी ने रूस पर भी सख्ती दिखाई। यूएन में अमेरिका की स्थाई सदस्य निकी हेली ने यूक्रेन में रूस की ‘आक्रमणकारी कार्रवाई’ की निंदा की और अपने पहले संबोधन के मौके का इस्तेमाल उन्होंने यूक्रेन में हिंसा बढ़ाने के लिए रूस को चेतावनी भेजने में किया। हेली ने यह भी साफ कर दिया कि जब तक क्रीमिया से रूस नहीं हटता, उसपर अमेरिकी बैन कायम रहेंगे। उन्होंने यह बात ऐसे समय में कही जब नया अमेरिकी प्रशासन रूस के साथ संबंध सुधारना चाहता है।

राष्ट्रपति ट्रंप के आक्रमक विदेश नीति की वजह से दुनिया के कई देशों में तनाव बढ़ गया है। दुनिया के अलग-अलग देश गुटबंदी और खेमे में बंटने लगी है। एकबार फिर दुनिया पर शीतयुद्ध का साया मडराने लगा है।

उधर साउथ चाइना सी पर चीन और अमेरिका के बीच टकराव बढ़ने की आशंका गहरा गई है। अमेरिका ने चेतावनी देते हुए कहा है कि साउथ चाइना सी को चीन अपनी जागीर नहीं समझे। साउथ चाइना सी पर दुनिया का अधिकार है। चीन के सरकारी अखबार की माने तो ट्रंप के इस धमकी के बाद चीन किसी भी तरह की युद्ध की तैयारी तेज कर दी है। राष्ट्रपति ट्रंप ने अमेरिका और मैक्सिको के बीच दीवार खड़ी करने की बात कही है। इससे अमेरिका और मैक्सिको के बीच तनाव बढ़ गया है।