भारत-अमेरिका-अफगानिस्तान के बीच त्रिपक्षीय बातचीत दिसंबर में: सुषमा स्वराज

नई दिल्ली(25 अक्टूबर): अमेरिकी विदेश मंत्री टिलरसन और सुषमा स्वराज की मुलाकात के दौरान दोनों ने कई अहम मुद्दों पर चर्चा की है। दोनों देशों के बीच पाकिस्तान में आतंकियों के सुरक्षित ठिकानों को खत्म करने को लेकर भी बात हुई। 

- विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने बताया कि भारत ने एच1बी वीजा मुद्दे से भी अमेरिका को अपनी चिंताओं से अवगत करा दिया है। भारत ने नॉर्थ कोरिया के खिलाफ ट्रंप प्रशासन द्वारा दिखाई जा रही सख्ती को भी परोक्ष रूप से अपना समर्थन दिया है। 

- अमेरिकी विदेश मंत्री रेक्स टिलरसन और सुषमा स्वराज की मुलाकात के बाद दोनों नेताओं ने साझा प्रेस कॉन्फ्रेंस को संबोधित किया। 

- विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने कहा कि अमेरिका ने भारत को जिस तरह से अपना वैश्विक साझेदार बनाया है, हम उसकी तारीफ करते हैं। सुषमा स्वराज ने कहा, 'हम अमेरिका के साथ रणनीतिक साझेदारी को उच्च प्राथमिकता देते हैं।' सुषमा स्वराज ने बताया कि सुरक्षा और आतंकरोधी मसलों पर हमारे बीच गहन विचार हुआ है। अमेरिका से कच्चे तेल की खरीदारी से हमारे ऊर्जा संबंध बढ़े हैं। अफगानिस्तान में बढ़ रही आतंकी हिंसाओं पर भी भारत ने चिंता जाहिर की है। 

- सुषमा ने कहा कि भारत-अमेरिका-अफगानिस्तान के बीच त्रिपक्षीय बातचीत दिसंबर में होगी। 

- सुषमा स्वराज ने अपने समकक्ष अमेरिकी विदेश मंत्री रेक्स टिलरसन से मुलाकात के दौरान पाकिस्तान की जमीन से चल रहे आतंकवाद पर भी चर्चा की। संयुक्त बयान में सुषमा ने बताया कि दोनों देश इस बात पर सहमत थे कि हमें सुनिश्चित करना होगा कि कोई भी देश आतंकवादियों को शरण न देने पाए। हम इस बात पर सहमत थे कि पाकिस्तान को अपने यहां आतंकवादियों की शरणस्थली को तुरंत खत्म करे, तभी राष्ट्रपति ट्रंप की नई रणनीति प्रभावी हो सकती है।