ट्रप के इस कदम से डरा पाकिस्तान, नहीं निकल रही आवाज

वाशिंगटन (12 मई): पाकिस्तान की शैतानी हरकतों की धीरे-धीरे पूरी दुनिया में पोल खुलती जा रही है। आतंकियों को अपना स्टेट पॉलिसी और रहनुमा मानने वाले पाकिस्तान को बड़ा झटका लगा है। अमेरिका ने पाकिस्तान में मौजूद आतंकवादियों और मुंबई हमले के षड़यंत्रकर्ता हाफिज सईद के जमात-उद दावा समूह पर प्रतिबंध लगा दिया है। अमेरिका ने जमात-उद दावा पर यह प्रतिबंध आतंकवादियों के नेतृत्व और धन इकट्ठा करने वाले नेटवर्कों को तबाह करने के प्रयास के लिए लगाया गया है।


यह प्रतिबंध लश्कर-ए-तैयबा, जमात-उद दावा, तालिबान, जमात-उल-दावा अल कुरान यानी JDQ और इस्लामिक स्टेट ऑफ इराक एंड सीरिया और ISIS खोरासन पर लगाया गया है। खोरासन एक ऐतिहासिक क्षेत्र है जिसमें उत्तरपूर्वी ईरान का बड़ा क्षेत्र, दक्षिणी तुर्कमेनिस्तान, उत्तरी अफगानिस्तान और भारत का हिस्सा शामिल है।


यह प्रतिबंध विशेष तौर पर हयातुल्ला गुलाम मोहम्मद (हाजी हयातुल्ला), अली मोहम्मद अबू तुरब, वेलफेयर एंड डेवलपमेंट ऑर्गेनाइजेशन ऑफ जमात-उद-दावा फॉर कुरान एंड सुन्ना (डब्ल्यूडीओ) के लिए कथित तौर पर पैसा इकट्ठा करने वाले संगठन इनायत-उर रहमान पर लगाया गया है।


ट्रेजरी ऑफिस ऑफ फॉरेन असेट्स कंट्रोल (ओएफएसी) के निदेशक जॉन स्मिथ ने कहा, ‘‘इन पाबंदियों को लगाने का उद्देश्य पाकिस्तान में मौजूद वित्तीय सहायता नेटवर्कों को समाप्त करना है। इन्हीं नेटवर्कों ने तालिबान, अलकायदा, आईएसआईएस और लश्कर-ए तैयबा को आत्मघाती हमलावरों की बहाली और अन्य हिंसक गतिविधियां के लिए वित्तीय सहायता मुहैया कराई थी।''