अपनी फेयरवेल स्पीच में रो पड़े ओबामा, कहा- देश बाटने वाले लोग डेमोक्रेसी के लिए खतरा हैं

नई दिल्ली ( 11 जनवरी ): बतौर राष्ट्रपति बराक ओबामा आज आखिरी बार अपने गृहनगर शिकागो में विदाई भाषण दिया। इस मौके पर उनके साथ पूरा परिवार मौजूद था। इसके अलावा अमेरिकी राष्ट्रपति के तौर पर उनका एयरफोर्स वन में यह अंतिम सफर भी है। अपने इस विदाई भाषण में उन्होंने उस समय का जिक्र किया है जब वह पहली बार शिकागो आए थे। उन्होंने अपने संबोधन में कहा कि जब वह महज बीस वर्ष के थे तब पहली बार वह शिकागो आए थे। यहां पर ही उन्हें पता चला कि उन्हें अपने जीवन में क्या करना है और इसका क्या महत्व है।


उन्होंने कहा कि इस बात का पहली बार अहसास हुआ कि उन्हें अपने में उस बदलाव को महसूस किया जिसकी बदौलत वह आज यहां पर खड़े हैं। यहां पर ही उन्हें आम लोगों के लिए आवाज उठाने और उनकी मांग के लिए लड़ना सीखा। उन्होंने कहा कि एक राष्ट्रपति के तौर पर बिताए आठ वर्षों के बाद भी वह इस बात पर यकीन रखते हैं। उन्होंने कहा कि वह आज सभी देशवासियों को शुक्रिया कहना चाहता हैं। हर दिन मैंने आपसे सीखा। आप लोगों ने मुझे बेहतर राष्ट्रपति और इंसान बनाया।


ओबामा के भाषम के मुख्य अंश...


-हां, हम कर सकते हैं। हां, हमने किया। इस लाइन से उन्होंने स्पीच खत्म की।

-मैं यकीन के साथ कहना चाहता हूं कि मुझमें बदलाव लाने की क्षमता नहीं है लेकिन आप लोगों में है।

-मिशेल, आप आने वाली जेनरेशन के लिए रोल मॉडल होंगी। मुझे और देश को आप पर गर्व होगा।

-ओबामा भावुक हुए। कहा- मिशेल और मैं 25 सालों से साथ हैं। वो महज मेरी पत्नी और बच्चों की मां नहीं हैं, वे मेरी सबसे अच्छी दोस्त हैं। इस   दौरान मिशेल और उनकी बेटियां (साशा-मेलिया) भी भावुक हो गईं।

-मैं ये कहना चाहता हूं कि मुस्लिमों और अमेरिकियों में कोई भेदभाव नहीं किया जाएगा।

-आईएसआईएस खत्म होगा। अमेरिका के लिए जो भी खतरा पैदा करेगा, वो सुरक्षित नहीं हो सकता।

-ओसामा बिन लादेन समेत हजारों टेररिस्ट को हमने मार गिराया है।

-बोस्टन और ओरलैंडो में जो घटनाएं हुईं वो बताती हैं कि रेडिकलाइजेशन कितना खतरनाक है। एजेसियां इसकी जांच कर रही है।

-बीते 8 साल में किसी भी आतंकी संगठन ने तो अमेरिका पर हमले की प्लानिंग और न ही हमला किया।

-जो लोग देश को बांटना चाहते हैं, उनसे डेमोक्रेसी को खतरा है।

-हमें इमिग्रेंट्स के बच्चों के लिए इनवेस्ट करना चाहिए। क्योंकि वे भी अमेरिका की तरक्की में भागीदारी करेंगे।

-लंबे वक्त से यहां रह रहे लोग जानते हैं कि जातियों के रिलेशन उससे काफी बेहतर हुए हैं जो 10, 20 या 30 साल पहले थे।

-हमारी जाति (अमेरिकन) में बहुत ताकत है। लेकिन कभी-कभी विभाजनकारी ताकतें भी हावी होती हैं।

-मैं यकीन दिलाता हूं कि मेरा एडमिनिस्ट्रेशन ट्रम्प को शांति से सत्ता ट्रांसफर करेगा।

-जब मैंने पोस्ट संभाली थी, तब से लेकर अमेरिका बेहतर और मजबूत हुआ है।

-आने वाले 10 दिन में देश एक बार फिर हमारी डेमोक्रेसी की ताकत देखेगा कि कैसे एक प्रेसिडेंट-इलेक्ट सत्ता संभालता है।

-डेमोक्रेसी के लिए सबसे जरूरी चीज यूनिटी बनाकर रखना होता है। यही हमें ऊपर ले जाती है। हम गिरें या उठें, हमें साथ होना चाहिए।

-हमारे पूर्वजों ने हमें महान गिफ्ट दी है। हमारे पास इस बात की आजादी है कि हम मेहनत और लगन से अपने सपनों को पूरा कर सकते हैं।

-मैंने सीखा कि बदलाव तभी आता है जब सामान्य शख्स इनवॉल्व होता है और साथ आकर मांग की जाती है।

-मैंने रोज आपसे सीखा। आप लोगों ने मुझे एक अच्छा इंसान और एक बेहतर प्रेसिडेंट बनाया।