उत्तर कोरिया पर हमले के लिए अमेरिका ने बनाया ये मास्टरप्लान

नई दिल्ली ( 1 मार्च ): अमेरिका ने उत्तर कोरिया को सबक सिखाने के लिए मास्टरप्लान तैयार कर लिया है। उत्तर कोरिया के परमाणु कार्यक्रमों पर लगाम लगाने के लिए अमेरिका फिलहाल तो कूटनीतिक प्रयास में लगा हुआ है, लेकिन यदि वह इन प्रयासों में नाकाम हो जाता है तो इसके लिए अमेरिका ने एक मास्टरप्लान भी तैयार कर रखा है। खबरों के मुताबिक पिछले हफ्ते अमेरिकी सेना ने एक गुप्त सैन्य अभ्यास किया है। अमेरिका सेना अभ्यास के जरिए यह परखने की कोशिश की कि अगर कोरियाई प्रायद्वीप में जंग छिड़ी तो अमेरिकी सैन्य टुकड़ियों को कैसे रवाना किया जाएगा और हमला किस तरह होगा। बाताया जा रहा है कि कूटनीतिक प्रयासों के फेल होने पर अमेरिका कोरियाई प्रायद्वीप पर हमला कर सकता है।

युद्धाभ्यास के दौरान इस बात पर फोकस किया गया कि अमेरिकी कार्रवाई के समय उत्तर कोरिया की सेना से होने वाले नुकसान से कैसे बचा जाएगा। इनमें से एक था कोरियाई प्रायद्वीप से रोज घायल सैनिकों को निकालने की पेंटागन की सीमित क्षमता। यह अमेरिका के लिए बड़ी समस्या बन सकती है। दरअसल, आशंका इस बात की है कि अगर उत्तर कोरिया ने रासायनिक हथियारों से अमेरिकी ऐक्शन का जवाब दिया तो परिस्थितियां उलट सकती हैं।  अमेरिका के डिफेंस सेक्रेटरी जिम मैरिस ने पत्रकारों से बात करने के दौरान कहा कि अगर नॉर्थ कोरिया के साथ जंग छिड़ती है तो यह काफी विनाशकारी होने वाला है। 

अमेरिका अखबार में छपी एक रिपोर्ट के मुताबिक इस अभ्यास की जानकारी रखने वाले 6 से ज्यादा सैन्य और रक्षा विभाग के अधिकारियों ने यह आशंका जताई। अधिकारियों के मुताबिक उत्तर कोरिया में उतरने वाली अमेरिकी फौज की मदद करने के लिए मध्य पूर्व और अफ्रीका से प्रशांत क्षेत्र की तरफ बड़ी संख्या में टोही विमानों को भेजे जाने की तैयारी है। 

प्लान तैयार करनेवालों ने यह भी परखा है कि दक्षिण कोरिया और जापान में तैनात अमेरिकी सैनिक कैसे इस जंग में शामिल हो सकते हैं। हालांकि इन तैयारियों के बावजूद पेंटागन के अधिकारियों का कहना है कि हमने जंग छेड़ने का फैसला नहीं किया है। गौरतलब है कि अमेरिकी राष्ट्रपति डोनल्ड ट्रंप ने साफ कहा है कि उत्तर कोरिया को अपनी परमाणु महत्वाकांक्षाओं पर लगाम लगानी होगी।