अमेरिका में आए हरीकेन हार्वे तूफान में फंसे 200 भारतीय छात्र

नई दिल्ली (28 अगस्त): अमेरिका में चक्रवाती तूफान हार्वे ने जबरदस्त तबाही मचाई है। ह्यूस्टन शहर भीषण बाढ़ की चपेट में है। विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने ह्यूस्टन यूनिवर्सिटी में पढ़ रहे 200 भारतीय छात्रों के बाढ़ में फंसे होने की बात कही है। छात्रों तक भोजन पहुंचाने की कोशिश की गई, लेकिन नौका के अभाव में यह संभव नहीं हो सका। विदेश मंत्री ने दो घायल छात्रों के आइसीयू में भर्ती होने की भी बात कही है। हार्वे से टेक्सास प्रांत के अन्य हिस्से भी बुरी तरह प्रभावित हुए हैं। तूफान से अरबों डॉलर के नुकसान की बात कही जा रही है।

विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने ट्वीट कर कहा है कि ह्यूस्टन यूनिवर्सिटी में तूफान की वजह से करीब 200 छात्र फंसे हुए हैं। तूफान में फंसे हुए भारतीयों तक हमने खाना पहुंचाने की कोशिश की लेकिन यूएस कोस्ट गार्ड ने उसे रोक दिया क्योंकि वहां रेस्क्यू ऑपरेशन चलाया जा रहा है। साथ ही उन्होंने कहा कि अमेरिका में भारत के काउंसलर जनरल अनुपम राय को भारतीयों के लिए रेस्क्यू ऑपरेशन की जिम्मेदारी दी गई है।

बताया जा रहा है कि तूफान के कारण हुई तबाही का जायजा लेने के लिए राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप मंगलवार को टेक्सास जाएंगे। उन्होंने टेक्सास को केंद्रीय मदद पहुंचाने का निर्देश दिया है। लगातार हो रही बारिश के कारण प्रांत की मुख्य सड़कें नदी में तब्दील हो चुकी हैं। मौसम विभाग ने अभी और बारिश की चेतावनी जारी की है। हार्वे को पिछले छह दशकों में अमेरिका का सबसे ताकतवर तूफान बताया जा रहा है। वर्ष 2005 के कैटरीना तूफान के कारण 1,800 लोगों की मौत हो गई थी।