'चीन के खिलाफ खड़े होने वाले पीएम मोदी दुनिया के अकेले नेता'

नई दिल्ली ( 17 नवंबर ): मोदी सरकार की सख्त विदेश नीति और सूझबूझ की चर्चा पूरी दुनिया में हो रही है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी चीन के 'वन बेल्ट वन रोड' (OBOR) के खिलाफ आवाज उठाने वाले दुनिया अकेले नेता हैं जबकि अमेरिका ने भी इस महत्वकांक्षी परियोजना पर लगातार चुपी साध रखी है।  चीन मामलों पर अमेरिका के एक शीर्ष विशेषज्ञ ने यह बात कही है। अमेरिका के प्रतिष्ठित थिंक टैंक हडसन इंस्टीट्यूट में चीनी रणनीति पर केंद्र के निदेशक माइकल पिल्‍स्बरी ने  अमेरिकी सांसदों के सामने कहा कि चीन के राष्ट्रपति शी चिनफिंग की महत्वकांक्षी परियोजना के खिलाफ मोदी और उनकी टीम ने हमेशा खुलकर अपनी बात रखी है। 

पिल्‍स्बरी ने कहा, ‘‘प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी अभी तक विश्व के अकेले ऐसे नेता हैं जिन्होंने इसके खिलाफ अपने विचार व्यक्त किए हैं। उन्होंने और उनकी टीम ने इस पर खुलकर अपने विचार रखें हैं, आंशिक रूप से इसका एक कारण यह भी है कि 'वन बेल्ट वन रोड' से भारतीय संप्रभुता के दावों का उल्लंघन होता है।’’ उन्होंने कहा कि यह पांच साल पुरानी परियोजना है और अमेरिकी सरकार अभी तक इसपर खामोश रही है।

अमेरिका की हिन्द-प्रशांत क्षेत्र पर नई रणनीति की सराहना करते हुए पेंटागन के पूर्व अधिकारी ने कहा कि हाल ही में लोगों ने राष्ट्रपति सहित ट्रंप प्रशासन के सदस्यों को 50 से अधिक बार ‘‘स्वतंत्र एवं मुक्त’’ हिन्द-प्रशांत क्षेत्र की बात कहते सुना है।