आखिर मंगलवार को ही अमेरिका में क्यों होता है राष्ट्रपति चुनाव ?

नई दिल्ली (8 नवंबर): अमेरिका में 150 से ज्यादा सालों से मंगलवार को ही चुनाव होते आ रहा है।  अमेरिका में राष्ट्रपति चुनाव हर चार साल पर होता है। और 1845 अमेरिकी कांग्रेस फैसला किया कि हर बार नवंबर के  पहले सोमवार के अगले दिन यानी मंगलवार को चुनाव होगा। इस सिलसिले में यूएस कांग्रेस के एक प्रस्ताव भी पारित किया। और तब से अमेरिका में नवंबर महीने के पहले सोमवार के अगले दिन यानी मंगलवार को राष्ट्रपति चुनाव होता आ रहा है। इसके पीछे कोई धार्मिक भावना नहीं है, बल्कि किसानों के हितों को ध्यान में रखकर ये फैसला किया गया।

दरअसल उस वक्त अमेरिका एक कृषि प्रधान देश था, लिहाजा चुनाव के लिए नवंबर का महीना किसानों को ध्यान में रखकर चुना गया। गर्मियों की शुरुआत या फिर वसंत ऋतु में चुनाव कराने से खेती प्रभावित होने की आशंका थी।

मंगलवार का दिन इसलिए चुना गया ताकि दूर-दराज के क्षेत्रों से आने वाले वोटरों का रविवार का दिन आवाजाही में व्यर्थ न हो और वो रविवार को संडे चर्च जा सकें। उस वक्त अमेरिका की एक बड़ी आबादी कृषि-संबंधी कार्यों से जुड़ी थी और वोट डालने के लिए वह लंबा सफर घुड़सवारी के जरिए तय करती थी। यह सफर कई बार एक दिन से भी ज्यादा का होता था।

उन दिनों अमेरिका में किसान शनिवार तक अपने खेतों में काम करते थे और रविवार को आमतौर पर आराम किया करते थे। साथ ही,ज्यादातर लोग रविवार को चर्च जाते थे। ऐसे में सप्ताह के अंत में चुनाव रखने से कम वोटिंग होने की आशंका थी।  इस तरह दुनिया के सबसे ताकतवर प्रेजिडेंट के चुनाव के लिए नवंबर के पहले सोमवार के बाद आने वाले मंगलवार का दिन चुना गया।