राष्ट्रपति ओबामा को बड़ा झटका, अमेरिका में बना सऊदी अरब के खिलाफ कानून

नई दिल्ली (29 सितंबर): अमेरिकी कांग्रेस ने बुधवार को बड़े बहुमत से राष्ट्रपति बराक ओबामा के वीटो को रद्द कर दिया है। ओबामा ने 9/11 के लिए जिम्मेदार सऊदी अरब पर केस चलाने की इजाज़त देने वाले कानून को रोकने के लिए वीटो पॉवर का इस्तेमाल किया था।

- इस प्रस्तावित कानून में प्रावधान है कि 9/11 हमले के पीड़ित परिवार हर्जाने के लिए सऊदी अरब पर केस कर सकेंगे।

- अमेरिकी कांग्रेस और सेनेट ने पहले ही इसे पास कर दिया था और ओबामा के पास मौका था कि वह अपने वीटो से इसे रोक सकें।

- ओबामा के आठ साल के कार्यकाल में यह पहला मौका है, जब अमेरिकी कांग्रेस ने उनके किसी वीटो को रिजेक्ट किया है।

- कांग्रेस ने वीटो को 348-76 के बड़े अंतर से रद्द कर दिया, जबकि सेनेट ने पहले ही इसे 97-1 के बहुमत से रद्द कर दिया था।

- ओबामा के वीटो के खिलाफ हुई इस वोटिंग को ओबामा और अरब में उनके पुरानी सहयोगी सऊदी अरब के लिए बड़ा झटका माना जा रहा है।

- इस कानून के बनने का रास्ता साफ हो जाने के बाद अब 9/11 हमले के पीड़ित परिवार हर्जाने के लिए सऊदी अरब पर केस कर सकेंगे।

- अमेरिकी सेनेट में तीसरी वरीयता के सेनेटर चार्ल्स शूमर ने एक बयान में कहा, 'राष्ट्रपति के वीटो के खिलाफ वोटिंग करना कोई आम फैसला नहीं था। 

- लेकिन ऐसा करना इस मामले में बेहद जरूरी था।

- हम 9/11 हमले के पीड़ित परिवारों को न्याय दिलाना चाहते हैं और इस कानून के बाद उन्हें काफी राहत मिलेगी।'

- उन्होंने माना कि हालांकि इस कदम से थोड़ी कूटनीतिक दिक्कतें भी आएंगी।