होवित्ज़र, F16 और अब गार्जियन ड्रोन, पाकिस्तान पस्त-चीन परेशान

नई दिल्ली (23 जून): प्रधानंत्री नरेंद्र मोदी की अमेरिका यात्रा से पहले ट्रंप प्रशासन ने जहां पाकिस्तान के प्रति सख्त रवैया अपनाया है वहीं भारत के साथ रक्षा संबंध मजबूत करने के संकेत भी दिये हैं। अमेरिका के इन कदमों से पाकिस्तान के हौंसले पस्त हो रहे हैं और चीन की पेशानी पर पसीना आ रहा है। लॉकहीक मार्टिन के भारत में एफ 16 बनाने के ऐलान के बाद अमेरिका ने कहा है को भारत को 22 गार्जियन ड्रोन भी दे रहा है। अमेरिका में  इस ड्रोन का निर्माण जनरल अटॉमिक्स डिपार्टमेंट कर रहा है। यह इस बात का भी संकेत है कि ओबामा प्रशासन के मुकाबले ट्रंप प्रशासन भारत के साथ अपने संबंध को लेकर ज्यादा रिजल्ट ऑरियंटेड है। 

अमेरिका के साथ भारत पहले थल सेना की ताकत बढ़ाने के लिए अल्ट्रा लाइट होवित्ज़र तोप का सौदा तय कर चुका है। होवित्ज़र की एक खेप भारत के पास आ भी चुकी है। इसी तरह वायु सेना की मारक और क्षमता को एफ 16 से धार मिल गयी है। अब गार्जियन ड्रोन से भारतीय नौ सेना की निगरानी और टोही क्षमता पाकिस्तान और चीन से कई गुना ज्यादा बढ़ जायेगी। हालांकि विदेश मंत्रालय ने भारत सरकार और मैन्युफैक्चरर को अवगत करा दिया है। यह सौदा दो से तीन अरब डॉलर यानी करीब 130 से 194 अरब रुपये का बैठेगा।