उरी के शहीद राजेश बने पिता, बेटी का नाम भारती

नई दिल्ली ( 26 अक्टूबर ) : देश की सरहद पर देश के लिए जान न्योछावर करने वाले बलिया के शहीद राजेश कुमार यादव को एक बेटी हुई है। उरी आतंकी हमले में 18 सितंबर को शहीद हुए राजेश की पत्नी ने 1 अक्टूबर को एक पुत्री को जन्म दिया है। घरवालों ने नवजात का नाम भारती रखा है।

शहीद की मां ने कहा, बेटा ने भारत माता के चरणों में शीश चढ़ा दिया, उसके जाने के बाद जब बेटी आई है तो इसका नाम भारती रख दिया है। शहीद राजेश के परिवार में पत्नी, दो और बेटी प्रीति और प्रियंका भी हैं। बलिया के दुबहड़ थाना के दुबहड़ गांव के राजेश कुमार यादव उरी में आंतकवादियों के ग्रेनेड हमले में शहीद हो गए थे।

शहीद राजेश की मां थोड़ा चिंतित भाव से कहती हैं कि राजेश ही उनके पूरे घर का खर्च संभालता था। राजेश के जाने के बाद पूरा परिवार बेसहारा हो गया है। राजेश के पिताजी का निधन 2006 में हो गया था। शहीद के परिवार में देशभक्ति की भावना रगों में दौड़ रही है। शहीद राजेश का भाई राकेश ने देशवासियों से अपील की है कि दिवाली में चीनी सामानों का बहिष्कार करना ही भारतीय सैनिकों का सम्मान एवं शहीदों के प्रति सच्ची श्रद्धांजलि होगी। राजेश के दो अन्य भाई राकेश और विकेश भी सेना में भर्ती होने के लिए उत्साहित हैं। इनका कहना है राजेश भारत माता की रक्षा में शहीद हो गए। अब हम भी भारत माता की सेवा करना चाहते हैं।

जिस तिरंगे में लिपटकर दुनिया से राजेश कुमार यादव विदा हुए उसी तिरंगे में वह अपना सबकुछ चाहते थे। आखिरी बार जब घर आए थे तो घर को तिरंगा के कलर में रंगवाने को कहा था। उनके न रहने के बाद परिवार ने घर को तिरंगे में रंगवाने का काम कर दिया है। परिवार की मांग है कि शहीद राजेश की याद में गांव में एक मूर्ति स्थापित की जाए।