नीतीश सरकार की बेशर्मी! शहीद को श्रद्धांजलि देने नहीं आया कोई मंत्री

पटना (30 सितंबर): उरी हमले में शहीद हुआ बिहार के सपूत राजकिशोर सिन्हा का पार्थिव शरीर पटना पहुंचा। दिल्ली के एक अस्पताल में इलाज के दौरान राजकिशोर ने बृहस्पतिवार को दम तोड़ दिया था। सबसे शर्मनाक बात यह रही कि आतंकवाद पर बड़ी-बड़ी बाते करने वाले नीतीश कुमार की सरकार से भारत मां के इस सपूत को श्रद्धांजलि देने बिहार सरकार का कोई मंत्री तक नहीं आया।

एयरपोर्ट पर बिहार रेजिमेंट के जवानों और अधिकारियों के साथ पटना के एसएसपी व डीएम ने उन्हें सलामी दी। वहा मौजूद शहीद राजकिशोर के बड़े भाई मुकुंद किशोर ने कहा की हमें हमारे भाई की शहादत पर गर्व है। हम तीन भाई थे, तीनों सेना में है और आज भी डयूटी करने को तैयार है। राजकिशोर सबसे छोटा भाई था।

भारतीय सेना के द्वारा की गई सर्जिकल स्ट्राइक पर शहीद राजकिशोर के भाई का कहना था कि वो जरूरी था और यह आगे भी होता रहेगा। भारतीय सेना पाकिस्तानी की तरह छुपकर वार नहीं करती। हालांकि पटना एयरपोर्ट पर एसएसपी और डीएम मौजूद थे, लेकिन बिहार सरकार का कोई मंत्री और विधायक वहां मौजूद नहीं था।

इससे पहले भी 2013 में जब पुंछ सेक्टर में बिहार का जवान शहीद हुआ था। और उसका पार्थिव शरीर आया था, उस समय सरकार का कोई मंत्री उपस्थित नहीं था। जिस बात को लेकर सरकार की फजीहत हुई थी।