Success Mantra: पहले चांस में टीना दाबी इस तरह बनीं सिविल सेवा परीक्षा की टॉपर

नई दिल्ली (10 मई): देश की सबसे प्रतिष्ठित परीक्षा यानी यूपीएससी की सिविल सेवा परीक्षा में इक बार दिल्ली की लड़की ने बाजी मारी है। टीना दाबी पहले नंबर पर रही हैं। तो जम्मू-कश्मीर के अतहर आमिल उल शफी खान दूसरे नंबर पर रहे हैं। सिविल सर्विस परीक्षा में पास उम्मीदवारों को पीएम मोदी ने भी बधाई दी है। जो सपने में नहीं सोचा, वो एक झटके में हो गया। दिल्ली की टीना दाबी को अपनी कामयाबी का भरोसा तो था लेकिन, हिंदुस्तान की सबसे मुश्किल परीक्षा यानी आईएएस में नंबर वन आ जाएंगी- ये नहीं सोचा था।

22 साल की टीना बचपन से ही आईएसएस बनना चाहती थी और इसकी तैयारी 11 वीं शुरू कर दी थी। लगन ऐसी की पहले ही चांस में टॉप पर पहुंच गयी। दिल्ली यूनिवर्सिटी के लेडी श्रीराम कॉलेज से ग्रेजुएट टीमा की मां भी अपनी बेटी की कामयाबी से बहुत भावुक हैं।

टीना ने अपने शुरुआती दस साल मध्य प्रदेश में गुजारे हैं। इसके बाद वह दिल्ली आ गईं..टीना मूल रुप से हरियाणा की रहनेवाली है। इसीलिए उसने हरियाणा कॉडर चुना है। तो कश्मीर के शफी खान देश की शान बने हैं। अतहर आमिर उल शफी कश्मीर के अनंतगान से ताल्लुक रखते हैं। इससे पहले 2014 में शफी भारतीय रेल यातायात सेवा के लिए चुने गए थे।

अतहर की दिली ख्वाहिश है कि वो जम्मू-कश्मीर में काम करें। इस बार सिविल सेवा परीक्षा से कुल 1,078 लोग चुने गए हैं। जिनमें सामान्य श्रेणी से 499, ओबीसी कोटे से 314, अनुसूचित जाति कोटे से 176 और अनुसूचित जनजाति कोटे से 89 लोग शामिल हैं।