उपेंद्र कुशवाहा ने ठुकराया तेजस्वी का न्योता, कहा- 'एनडीए में हैं और बने रहेंगे'

न्यूज24 ब्यूरो, नई दिल्ली ( 11 जून ): केंद्रीय मंत्री एवं राष्ट्रीय लोक समता पार्टी (रालोसपा) के राष्ट्रीय अध्यक्ष उपेन्द्र कुशवाहा पर 'महागठबंधन' में शामिल होने के लिए राजद उन पर लगातार डोरे डाल रही है। आरजेडी नेता तेजस्वी यादव की ओर से 'महागठबंधन' में शामिल होने के निमंत्रण पर उपेन्द्र कुशवाहा ने कहा, "आरजेडी ने अपना आधार खो दिया है। इसलिए वे ऐसे बयान दे रहे हैं, लेकिन वे मेरे लिए कुछ भी नहीं हैं। उन्होंने कहा कि नरेंद्र मोदी का देश हित में प्रधानमंत्री बने रहना जरूरी है। मोदी अगली बार भी प्रधानमंत्री होंगे और वह उनका साथ देंगे।रालोसपा अध्यक्ष ने यह भी साफ किया था कि वे एनडीए में हैं और बने रहेंगे। 2019 लोकसभा चुनाव को लेकर कहा कि फिलहाल प्रधानमंत्री पद की वैकेंसी नहीं है।उपेंद्र कुशवाहा के इस बयान ने बिहार के उस सियासी पारे को गिरा दिया जो रविवार को तेजस्वी के एक ट्वीट के बाद चढ़ गया था। दरअसल रविवार को आरजेडी नेता और पूर्व डेप्युटी सीएम तेजस्वी यादव ने ट्वीट कर उपेंद्र कुशवाहा को महागठबंधन में शामिल होने का न्योता दिया था। ऐसी खबरें आ रहीं थीं कि एनडीए में सीट शेयरिंग को लेकर नीतीश को ज्यादा तवज्जो मिलने से उपेंद्र कुशवाहा नाखुश हैं। तेजस्वी ने इसी मौके को भुनाने के लिए एनडीए में फूट डालने के लिए एक राजनीतिक दांव चला था।कुशवाहा के इस बयान ने राजग से नाराजगी की चर्चाओं को खत्म कर दिया है। बता दें कि रविवार को रालोसपा अध्यक्ष के घर हुई इफ्तार पार्टी में मुख्यमंत्री नीतीश कुमार और जदयू का कोई भी नेता शामिल नहीं हुआ। इस इफ्तार पार्टी में बिहार भाजपा के अध्यक्ष नित्यानंद राय शामिल हुए।