NDA की बैठक में शामिल नहीं होंगे उपेंद्र कुशवाहा, बिहार सीएम पद मांगा

नई दिल्ली (7 जून): उपचुनावों के नतीजे के बाद एनडीए में सीटों को लेकर घमासान को रोकने के लिए बिहार में साथियों के लिए बीजेपी की तरफ से महाभोज रखा है। लेकिन केंद्रीय मंत्री और राष्ट्रीय लोक समता पार्टी (RLSP) के अध्यक्ष उपेंद्र कुशवाहा ने इस बैठक में शामिल नहीं होने की बात कहकर बीजेपी की चिंता बढ़ा दी।न्यूज 24 पर बात करते हुए रालोसपा के प्रवक्ता नागमणि ने कहा की बिहार में रालोसपा सबसे बड़ी पार्टी है। रालोसपा का वोट बैंक सबसे ज्यादा है। जदयू के पास मात्र 2 सांसद है जबकि रालोसपा के पास 3 सांसद है। इस नाते रालोसपा प्रमुख उपेंद्र कुशवाहा को बिहार का मुख्यमंत्री एनडीए को बनाना चाहिए। बिहार में उपेंद्र कुशवाहा सबसे बड़ा चेहरा है।रालोसपा प्रमुख उपेंद्र कुशवाहा आज शाम होने वाली एनडीए की बैठक में शामिल नहीं होगें। रालोसपा के तरफ से प्रदेश अध्यक्ष भूदेव चौधरी बैठक में हिस्सा लेगें। उपेंद्र कुशवाहा का कहना है कि ये एनडीए की मीटिंग नहीं है। इसमें अधिकतर जिला स्तर के पदाधिकारी ही शामिल होंगे और राज्य की ही लीडरशिप शामिल होगी।कुशवाहा का कहना है कि उनकी स्टेट लीडरशिप नहीं बल्कि केंद्रीय लीडरशिप से बातचीत है। वह बिहार के प्रेसिडेंट से बात नहीं करते हैं। कुशवाहा की मांग है कि बैठक एनडीए की बुलाई जानी चाहिए, जोकि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और बीजेपी अमित शाह बुलाते हैं।  हालांकि इस बैठक और रात्रि भोज में बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार समेत करीब 1000 नेता शामिल होंगे। बिहार में बीजेपी-जेडीयू के साथ सरकार बनने के बाद यह पहला मौका है, जब एनडीए के नेताओं की बैठक हो रही है। बैठक में नीतीश कुमार के अलावा केंद्रीय मंत्री रामविलास पासवान समेत बीजेपी के भूपेंद्र यादव, डिप्टी सीएम सुशील मोदी, बीजेपी प्रदेश अध्यक्ष नित्यानंद राय, अरुण कुमार समेत सभी सांसद, विधायक, विधान पार्षद, प्रदेश पदाधिकारी और सभी घटक दलों के जिलाध्यक्ष महाभोज में शामिल हो सकते हैं।