जिन लोगों पर थी वक्फ की जिम्मेदारी, उन्होंने ही कर दिया सौदा


पंकज, अशोक तिवारी, लखनऊ (22 अप्रैल): उत्तर प्रदेश में वक्फ बोर्ड के भीतर बड़े घोटाले की खबर आई है, राज्य के वक्फ मामलों के मंत्री मोहसिन रज़ा का आरोप है कि यूपी के शिया और सुन्नी वक्फ बोर्ड में करोड़ों की गड़बड़ी हुई है। सबसे बड़ा घपला वक्फ की संपत्ति पर कब्जे को लेकर हुआ है। योगी के मंत्री इसके लिए अखिलेश सरकार की तरफ इशारा कर रहे हैं। न्यूज़ 24 ने इस दावे की बड़ी पड़ताल की।


वक्फ एक अरबी शब्द है जिसका मतलब दान  देना होता है। यानी वक्फ की संपत्ति दान में मिली संपत्ति होती है। नियम के मुताबिक वक्फ की संपत्ति का इस्तेमाल गरीबों की सेवा के लिए होना चाहिए। लेकिन जिन लोगों पर इसकी जिम्मेदारी थी उन्हीं पर इसका सौदा करने का आरोप लगा है।


बरेली में वक्फ की संपत्ति का सौदा करनेवालों ने हद कर दी। आरोपियों ने कब्रिस्तान तक की बोली लगवा दी। सियासी रसूख के दम पर इन लोगों ने वक्फ बोर्ड के बाग़ों को भी बेच डाला। मामला करोड़ों के मुनाफे का था, इसलिए सही-गलत की किसी को फिक्र नहीं रही।


मेरठ में भी वक्फ बोर्ड की जमीन बेचने का मामला सामने आया है। मामला कंकरखेड़ा इलाके का है, जहां वक्फ बोर्ड से जुड़े लोगों ने ही करोड़ों की जमीन बेच डाली। इस मामले की शिकायत करने यहां वो परिवार आगे आया है, जिसके पुरखों ने ये जमीन समाज के लिए वक्फ की थी। कुल 13 लोगों पर आरोप लगा है। इसमें शिया वक्फ बोर्ड के चेयरमैन वसीम रिजवी भी है।


वीडियो: