Blog single photo

एसपी और बीएसपी में 'डील' डन, कांग्रेस आउट !

उत्तर प्रदेश में समाजवादी पार्टी और बहुजन समाज पार्टी के गठबंधन का औपचारिक ऐलान शनिवार को होगा। समाजवादी पार्टी अध्यक्ष अखिलेश यादव और बहुजन समाज पार्टी की मुखिया मायावती की कल दोपहर 12 बजे संयुक्त प्रेस कॉन्फ्रेंस कर रहे हैं

न्यूज 24 ब्यूरो, नई दिल्ली (11 जनवरी): उत्तर प्रदेश में समाजवादी पार्टी और बहुजन समाज पार्टी के गठबंधन का औपचारिक ऐलान शनिवार को होगा। समाजवादी पार्टी अध्यक्ष अखिलेश यादव और बहुजन समाज पार्टी की मुखिया मायावती की कल दोपहर 12 बजे संयुक्त प्रेस कॉन्फ्रेंस कर रहे हैं। गौरतलब है कि 26 साल पहले हुए गेस्ट हाउस कांड के बाद दोनों पार्टियों में आई दूरी के बाद यह पहला मौका है जब दोनों नेता एक साथ पत्रकारों के सामने बैठे दिखेंगे। इस प्रेस कॉन्फ्रेंस में गठबंधन और सीट बंटवारे का एलान किया जाएगा। समाजवादी पार्टी की ओर से जारी मीडिया निमंत्रण के मुताबिक ये प्रेस कॉन्फ्रेंस लखनऊ के गोमती नगर स्थित होटल ताज में होगी। सूत्रों के मुताबिक इस गठबंधन में आरएलडी भी शामिल होगा। कांग्रेस के लिए अमेठी और रायबरेली सीट छोड़ने की खबरें आ रही हैं।

गौरतलब है कि एसपी-बीएसपी के गठबंधन को लेकर लंबे वक्त से बातचीत चल रही थी। पिछले सप्ताह दिल्ली में बीएसपी सुप्रीमो मायावती और समाजवादी पार्टी अध्यक्ष अखिलेश यादव की मुलाकात हुई थी। करीब डेढ़ घंटे तक चली इस मुलाकात में गठबंधन के फॉर्मूले पर अंतिम मुहर लगी थी। मुलाकात के बाद सूत्रों के मुताबिक ऐसी खबरें थीं कि दोनों के बीच सीट शेयरिंग का फॉर्मूला तय हो चुका है। अब केवल इसका औपचारिक ऐलान किया जाना बाकी है। 

जानकारी के मुताबिक मायावती और अखिलेश यादव के बीच जो फॉर्मूला तैयार हुआ है, उसके मुताबिक समाजवादी पार्टी 35 सीट, बीएसपी 36 सीट और राष्ट्रीय लोकदल 3 सीट पर चुनाव लड़ेगी। वहीं 4 सीट रिजर्व रखी जाएंगी। इसके अलावा गठबंधन अमेठी और रायबरेली में अपना उम्मीदवार नहीं उतारेगा।

आपको बता दें कि बता दें कि गोरखपुर उपचुनाव के दौरान से ही दोनों पार्टियां 26 साल की पुरानी दुश्मनी भुलाकर साथ आईं थीं। अखिलेश पर हाल ही में सीबीआई द्धारा शिकंजा कसने के बाद से बीएसपी पूरी तरह से उसके साथ दिखी है। एसपी के महासचिव राम गोपाल यादव और बीएसपी के सतीष चंद्र मिश्रा ने हाल ही में ज्वाइंट प्रेस कॉन्फेंस करके बीजेपी हमला किया था। इसके साथ ही बीएसपी अध्यक्ष मायावती ने अखिलेश यादव को फोन किया था। मायावती ने इसे बीजेपी का घिनौना चुनावी षड्यंत्र करार दिया था। उन्होंने कहा था कि ये बीजेपी का पुराना हथकंडा है, जो अपने विरोधियों के खिलाफ आजमाती रहती है।

ज्यादा जानकारी के लिए देखिए न्यूज 24 की ये रिपोर्ट...

Tags :

NEXT STORY
Top