उत्तर प्रदेश में महागठबंधन को बड़ा झटका, अखिलेश-माया के गठबंधन से कांग्रेस बाहर !

न्यूज 24 ब्यूरो, नई दिल्ली (19 दिसंबर): बीजेपी विरोधी दलों की महागठबंधन की कवायद को उत्तर प्रदेश में झटका लगता दिख रहा है। सूत्रों से मिल रही जानकारी के लिए समाजवादी प्रमुख अखिलेश यादव और बीएसपी प्रमुख मायावती कांग्रेस के साथ-साथ अजीत की पार्टी के साथ गठबंधन के हिमायती तो हैं लेकिन सीटों के बेटवारे को लेकर पेंच फंसा हुआ है। बताया जा रहा है कि 2019 के आम चुनाव के मद्देनजर समाजवादी पार्टी और बीएसपी के बीच सीटों के बंटवारे पर सहमति बन गई है।

इसके तहत राज्य की 80 में से 38 सीट पर समाजवादी पार्टी और 37 सीट पर बीएसपी अपने उम्मीदवार खड़ी करना चाहती है। जबकि अखिलेश यादव और मायवती आरएलडी के लिए 3 और कांग्रेस के महज 2 सीट छोड़ना चाहती है।

ऐसी स्थिति में कांग्रेस को उत्तर प्रदेश में अकेले चुनावी मैदान में उतरना पड़ सकता है। हालांकि गठबंधन की गुंजाइश बनी रहे, इस लिहाजा से एसपी और बीएसपी कांग्रेस के गढ़ अमेठी और रायबरेली में गठबंधन प्रत्याशी नहीं उतारेंगी। साथ ही एसपी अपने कोटे की कुछ सीटें भी अन्य छोटे दल जैसे निषाद पार्टी, पीस पार्टी को दे सकती है।

जानकारी के मुताबिक अखिलेश यादव और मायावती के बीच गठबंधन को लेकर सीटों का फॉर्मूला तकरीबन तय हो गया है और इसका औपचारिक ऐलान मायावती के जन्मदिन पर हो सकता है। आपको बता दें कि बीएसपी हर साल 15 जनवरी को मायावती के जन्मदिन को बहुत धूमधाम से मनाती है। इसी दिन मायावती एक ब्लू बुक जारी जारी करती है जिसमें हर साल के उनके काम और बीएसपी के वैचारिक नजरिए को सामने रखा जाता है। 

लोकसभा चुनाव के लिहाज से इस बार एक बड़ा आयोजन कर सकती है। इस कार्यक्रम गैर कांग्रेसी और गैर बीजेपी दलों के नेताओं को आमंत्रित किया जा सकता है। बताया जा रहा है कि इसी दिन सूबे में गठबंधन का ऐलान होगा।

गौरतलब है कि पिछले दिनों मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और राजस्थान विधान सभा चुनाव के दौरान समाजवादी पार्टी और बीएसपी कांग्रेस के साथ राज्य में गठबंधन करना चाहती थी लेकिन सीटों पर बात नहीं बनने के बाद तीनों पार्टियों ने राज्य में अलग-अलग चुनाव लड़ा। इस चुनाव में जहां तीनों राज्यों में कांग्रेस की सरकार बनी। वहीं समाजवादी पार्टी को 1 और बीएसपी को 3 सीट पर जीत से ही संतोष करना पड़ा। हालांकि बाद में अखिलेश यादव और मायावती ने उन राज्यों में कांग्रेस को समर्थन देने का ऐलान किया। लेकिन दोनों नेता कांग्रेस मुख्यमंत्रियों के शपथ ग्रहण समारोह में शामिल नहीं हुए।

ज्यादा जानकारी के लिए देखिए न्यूज 24 की ये रिपोर्ट...