सीएम योगी अपने पहले टीवी इंटरव्यू में बोले, सत्ता हमारे लिए मौज-मस्ती का अड्डा नहीं

नई दिल्ली ( 5 मार्च ): उत्तर प्रदेश के नए मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने पदभार ग्रहण करने के बाद अपना पहला टीवी इंटरव्यू डीडी न्यूज को दिया है। इंटरव्यू में योगी आदित्यनाथ ने कहा कि चेहरा और जाति देखकर भेदभाव नहीं होगा। योगी आदित्यनाथ ने कहा कि राजसत्ता योगियों के लिए है भोगियों के लिए नहीं, सत्ता हमारे लिए मौज मस्ती का अड्डा नहीं है।


इसके अलावा उन्होंने पिछले 17 दिन में अपनी सरकार द्वारा लिए गए फैसलों और भविष्य की योजनाओं पर विस्तार से बात की। सीएम योगी ने कहा कि 11वीं, 12वीं कक्षा में विदेशी भाषा अनिवार्य होने से बच्चों का फायदा होने की बात कही और ऐलान किया कि जल्द ही पारदर्शिता के साथ शिक्षकों की भर्ती की जाएगी।


योगी आदित्यनाथ ने कहा कि अपराध पर कड़ी कार्रवाई करेंगे। उन्होंने एंटी रोमियो स्क्वॉड के बारे में कहा कि ये दस्ते किसी जाति या धर्म के लोगों के विरोध में नहीं हैं बल्कि प्रदेश की लड़कियों को सुरक्षा का वातावरण मुहैया कराने की दिशा में उठाया गया कदम हैं। योगी ने कहा कि पिछली सरकार के समय यूपी में असुरक्षा का माहौल था और चरमराई कानून व्यवस्था की वजह से लोगों को पलायन के लिए मजबूर होना पड़ा था।


सीएम योगी ने गन्ना किसानों के बारे में कहा कि 2 महीने के अंदर गन्ना किसानों के बकाया का भुगतान करना होगा और अगर ऐसा नहीं हुआ तो संबंधित चीनी मिल मालिकों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई होगी। योगी ने कहा कि नई चीनी मिलों पर फैसला अगली कैबिनेट की बैठक में लिया जाएगा।


प्रदेश में योगी सरकार के आते ही बड़ी संख्या में बूचड़खानों पर कार्रवाई हुई है इस पर पूछे गए सवाल के जवाब में योगी आदित्यनाथ ने साफ कर दिया कि बूचड़खानों पर एनजीटी के मानकों का पालन करना ही होगा और इस मुद्दे पर कानून हाथ में लेने वालों को नहीं बख्शा जाएगा।

मुख्यमंत्री ने साफ किया कि स्वास्थ्य सुविधाओं के अभाव में बच्चों की मौत के लिए संबंधित सीएमओ जिम्मेदार होंगे इसी तरह अगर भूख से कोई मौत होती है तो संबंधित जिलाधिकारियों को इसके लिए जिम्मेदार माना जाएगा।