उन्नाव जेल में कैदियों का जश्न, असलहा लहराते हुए वीडियो वायरल

न्यूज 24 ब्यूरो, नई दिल्ली (27 जून):  उत्तर प्रदेश के उन्नाव जेल मामले में बुधवार को बड़ी कार्रवाई हुई। उन्नाव जेल अधीक्षक एके सिंह की रिपोर्ट पर चार जेलकर्मियों के खिलाफ विभागीय कार्रवाई की गई है. दो हेड वार्डर और दो जेल वार्डर के खिलाफ विभागीय कार्रवाई के आदेश जारी किए गए हैं। अब चारों जेलकर्मियों के खिलाफ बर्खास्तगी की कार्रवाई की जाएगी। आपको बता दें कि यहां उम्रकैद की सजा काट रहे दो कैदियों का जेल के अंदर हथियार लहराते वीडियो वायरल हुआ था। मामले पर हड़कंप मचते ही जिलाधिकारी ने जेल अधीक्षक को कड़ी फटकार लगाते हुए रिपोर्ट तलब की थी। 

वीडियो में एक कैदी जेल की किसी कोठरी के बाहर खड़ा दिख रहा है। जिसका नाम है अमरीश. वह हत्या के मामले में उम्र कैद की सजा काट रहा है, लेकिन बदन पर कैदियों वाले कपड़े नहीं टीशर्ट और जैकेट हैं, हाथ में पिस्टल और जुबान पर खुद की शेखियां। उसी वीडियो के आखिर में एक और कैदी नजर आता है. शेखियां बघारने की बारी अब इसकी है. नाम है गौरव उर्फ अंकुर। वह हत्या और लूट के मामले में आरोपी है। 

उन्नाव जेल में तैनात हेड वार्डर माता प्रसाद और हेमराज के साथ जेल वार्डर सलीम और अवधेश साहू के खिलाफ विभागीय कार्रवाई के आदेश दिए गए हैं। इन्हीं 4 जेलकर्मियों की मिलीभगत से बदमाशों ने हथियार लहराते वीडियो बनाया और उसे वायरल किया था। अब जेल विभाग में बदमाशों से मिलीभगत करने वाले जेलकर्मियों को भी बर्खास्त करने की तैयारी है।

घटना प्रकाश में आने के बाद बुधवार शाम जिलाधिकारी देवेंद्र कुमार पांडेय, एसपी माधव प्रसाद वर्मा, एडीएम राकेश कुमार सिंह, एएसपी विनोद कुमार पांडेय, सीओ सिटी उमेश चंद्र त्यागी समेत आधा दर्जन अधिकारी जिला जेल पहुंच कर छानबीन की। वीडियो वायरल होने से हुई बदनामी पर डीएम ने जेल अधीक्षक एके सिंह और जेलर बृजेंद्र सिंह को फटकार लगाई और मामले की फौरन तफ्तीश के लिए रिपोर्ट तलब की। अब तक की जांच में हेड जेल वार्डर माता प्रसाद, हेमराज, जेल वार्डर अवधेश साहू और सलीम खां की मिलीभगत पाई गई है। जिला प्रशासन अब इन्हें बर्खास्त करने की तैयारी में लगा है। जांच में पाया गया कि एक साजिश के तहत हथियार लहराते वीडियो को वायरल किया गया।