बीएचयू बवाल पर कमिश्नर ने सौंपी रिपोर्ट, विश्वविद्यालय प्रशासन को बताया जिम्मेदार

नई दिल्ली ( 26 सितंबर ): वाराणसी के बनारस हिंदू विश्वविद्यालय में हुए बवाल की जांच पूरी हो चुकी है। कमिश्नर नितिन रमेश गोकर्ण ने रिपोर्ट उत्तर प्रदेश सरकार को सौंप दी है। कमिश्नर ने अपनी रिपोर्ट में बवाल बढ़ने के लिए बीएचयू प्रशासन को जिम्मेदार ठहराया है।

वाराणसी कमिश्नर नितिन गोकर्ण ने चीफ सेकेट्ररी राजीव कुमार को दी गई अपनी रिपोर्ट में बताया कि बीएचयू के प्रशासन ने पीड़ित की शिकायत पर ढंग से कार्रवाई नहीं की और न ही हालात को सही तरीके से संभाला गया। इसी वजह से इतना बड़ा बवाल हुआ। सोमवार को कमिश्नर के पास 27 लोगों ने बयान भी दर्ज कराया है। 

इनमें से ज्यादातर लोगों ने कहा कि बीएचयू में हुआ उपद्रव विश्वविद्यालय प्रशासन, जिला प्रशासन और पुलिस की लापरवाही का नतीजा है। तीनों ने अगर सही समय पर अपनी भूमिका का निर्वहन किया होता तो इतनी बड़ी घटना नहीं होती। बता दें कि बीएचयू में छात्राओं के साथ छेड़छाड़ के बाद किए जा रहे धरना प्रदर्शन और विरोध से माहौल काफी बिगड़ गया था।

सोमवार को ही बीएचयू की घटना को लेकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह ने उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से बात की है और जरूरी कदम उठाने को कहा।