पीएम मोदी से मिले अमेरिकी रक्षामंत्री पोम्पियो, ईरान-आतंकवाद समेत कई मुद्दों पर हुई बात !

Modi-Pompeo

न्यूज 24 ब्यूरो, नई दिल्ली (26 जून): दो दिनों के भारत दौरे पर आए अमेरिकी विदेश मंत्री माइक पोम्पियो ने आज सुबह प्रधानमंत्री मोदी से मुलाकात की। इस मुलाकात के दौरान  विदेश मंत्री एस. जयशंकर, NSA अजित डोभाल भी मौजूद थे। बताया जा रहा है कि इस मुलाकात के दौरान दोनों नेताओं के बीच ईरान संकट, आतंकवाद की चुनौती समेत कई द्विपक्षीय और अंतर्राष्ट्रीय मुद्दों पर बात हुई। प्रधानमंत्री मोदी से मुलाकात के बाद माइक पोम्पियो और एस. जयशंकर के बीच लंबी बैठक होनी है। इस दौरान भारत और अमेरिका के बीच लंबित कई मुद्दों पर बात होनी हैं। भारत आतंकवाद, ईरान और एंटी मिसाइल सिस्टम S-400 पर अपनी राय अमेरिका को बताएगा। आपको बात दें अमेरिका रूस से S-400 खरीदने की भारत की कोशिशों का विरोध कर रहा है और भारत को प्रतिबंध की धमकी भी दी है।

गौरतलब है कि मोदी-पॉम्पियो की ये मुलाकात अगले हफ्ते होने वाली G20 बैठक से पहले हो रही है। जापान के ओसाका में होने वाली इस बैठक में अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप और नरेंद्र मोदी के बीच द्विपक्षीय वार्ता होनी है। ऐसे में इस बैठक में उस मुलाकात के एजेंडे पर काम हो सकता है. नरेंद्र मोदी दोबारा बड़े बहुमत से सरकार में आए हैं, तो वहीं डोनाल्ड ट्रंप चुनाव में जाने को तैयार हैं। भारत और अमेरिका के बीच हालिया दिनों में संबंध कुछ ठीक नहीं रहे हैं. अमेरिका और ईरान में ठनी हुई है, अमेरिका की मांग है कि भारत ईरान से तेल ना खरीदे और भारत का बिना तेल काम होना मुश्किल है। साथ ही रूस से S-400 मिसाइल सिस्टम खरीदने पर अमेरिका अड़ंगा लड़ा रहा है, लेकिन भारत को ये भा नहीं रहा है। ऐसे में इस मुद्दे पर बात होनी भी तय है।

आपको बता दें कि पीएम मोदी के दूसरी बार सत्ता में आने के बाद ट्रंप प्रशासन के किसी अधिकारी का यह पहला भारत दौरा है। मोदी इसके बाद ओसाका में राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप से मिल सकते हैं।  माइक पोम्पियो के भारत दौरे के लेकर विदेश मंत्री एस जयशंकर ने कहा बै कि हमारी मुलाकात सकारात्मक रुख के साथ होने जा रही है। हम व्यापार के मसले पर चर्चा करेंगे और साझे हित के बिंदुओं को तलाशने का प्रयास करेंगे। इस मुलाकात के दौरान दोनों देशों के बीच के रिश्तों को मज़बूत करने की कोशिश की जाएगी। इस दौरान चरमपंथ, व्यापार के अलावा पाकिस्तान, चीन समेत कई मुद्दों पर बातचीत होने की उम्मीद है। इसके साथ ही जी-20 शिखर सम्मेलन से इतर अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के साथ पीएम मोदी की मुलाकात के पहले पोम्पियो के इस दौरे को काफी अहम माना जा रहा है।Pompeoदरअसल माइक पोम्पियो ऐसे वक्त पर भारत आए हैं जब ट्रेड वॉर को लेकर भारत और अमेरिका के बीच तनाव चल रहा है। इसके अलावा, ईरान और अमेरिका के बीच युद्ध की नौबत आ गई है। हालांकि, पोम्पियो की ये भारत यात्रा पहले से तय थी। अमेरिकी विदेश मंत्रालय की प्रवक्ता मोर्गन ओर्तागस ने 13 जून को अपने एक बयान में कहा था कि पोम्पिओ की हिंद-प्रशांत के चार देशों की यात्रा का मकसद अमेरिका की महत्वपूर्ण देशों के साथ साझेदारियों को और मजबूत करना है ताकि मुक्त और निर्बाध हिंद-प्रशांत के साझा लक्ष्य को पाने की दिशा में आगे बढ़ा जा सके।