भागलपुर हिंसा: केंद्रीय मंत्री अश्विनी चौबे के बेटे अर्जित को मिली जमानत

नई दिल्ली ( 9 अप्रैल ): रामनवमी के मौके पर भागलपुर के नाथनगर में हुई सांप्रदायिक हिंसा के आरोपित केंद्रीय मंत्री अश्विनी चौबे के बेटे अर्जित शाश्वत समेत अन्य आठ भाजपा नेताओं को आज कोर्ट ने जमानत दे दी है। 

प्रभारी ज़िला जज कुमुद रंजन सिंह ने नाथनगर दंगा कांड 176/18 में सुनवाई के बाद फैसला सुरक्षित रखा था और उसके बाद अपना फैसला सुनाते हुए इन सबको जमानत दे दी। 

सुनवाई के दौरान बचाव पक्ष के अधिवक्ताओं ने केंद्रीय मंत्री के बेटे समेत सभी आरोपितों पर लगायी गयी धाराओं को केंद्रित कर बहस किया, जिसके बाद बचाव पक्ष ने अदालत को बताया कि पुलिस ने मनगढ़ंत कहानी बनाते हुए इन सबपर कानून की धाराओं को लगाया है। गवाह के नाम पर डीजे बजाने वाले का बयान कलमबंद किया गया है। इस सुनवाई के बाद कोर्ट ने अपना फैसला सुरक्षित रख लिया था। 

कोर्ट ने अर्जित चौबे समेत 8 भाजपा नेताओं को बेल देते समय शर्त रखी कि एक महीने तक आप लोग न किसी जुलूस में शामिल होंगे और न किसी सभा का नेतृत्व करेंगे।

गौरतलब है कि अर्जित शाश्वत ने पटना में 31 मार्च को सरेंडर किया था जिसके बाद उन्हें 14 दिनों की न्यायिक हिरासत में जेल भेजा दिया गया था। भागलपुर हिंसा मामले में कुल नौ नामजद और पांच सौ से अधिक नामजद अज्ञात के खिलाफ केस दर्ज है।