सरकार ने बजट में वरिष्ठ नागरिकों का रखा खास ख्याल, 50 हजार रुपए तक की डिपॉजिट पर छूट

नई दिल्ली (1 फरवरी): सरकार के इस बजट से सैलरीड और मिडल क्लास को मायूसी मिली है वहीं इससे वरिष्ठ नागरिकों को थोड़ी राहत मिली है। सरकार ने आयकर के स्लैब्स में कोई बदलाव नहीं किया लेकिन सभी वेतनभोगियों का 40 हजार तक स्टेंडर्ड डिडक्शन देने की बात कही। वही वरिष्ठ नागरिकों को जमा राशि पर ब्याज आय में 50 हजार तक छूट मिलेगी।

सरकार ने वरिष्ठ नागरिकों के लिए बैंक में जमा राशि पर टैक्स छूट 50 हजार रुपए तक कर दिया गया है। इसके साथ ही स्वास्थ्य बीमा पर उन्हें मिलने वाले टैक्स छूट को बढ़ाकर 50 हजार रुपए कर दिया है। गौरतलब है कि इस बार के बजट में नौकरीपेशा लोगों को राहत नहीं दी गई है। हालांकि सरकार ने स्टैंडर्ड डिडक्शन के तहत 40 हजार रुपए की छूट दी है। 

बजट में वरिष्ठ नागरिकों को राहत...

- बैंकों और डाकघरों में जमाराशियों पर ब्याज से हुई आमदनी पर छूट 10,000 रुपये से बढ़ाकर 50,000 रुपये

- धारा 194A के तहत TDS काटने की आवश्यक्ता नहीं,  सभी FDs और RDs से मिले ब्याज पर भी इसका लाभ मिलेगा

- धारा 80D के तहत स्वास्थ्य बीमा का प्रीमियम और इलाज पर खर्च के लिए टैक्स डिडक्शन की सीमा 30,000 रुपये से बढ़ाकर 50,000 रुपये

- धारा 80DDB के तहत कुछ विशेष गंभीर बीमारियों पर इलाज पर खर्च के लिए कटौती सीमा 60,000 रुपये (60 से 80 वर्ष की उम्र के वरिष्ठ नागरिकों के मामले में) और 80,000 रुपये (80 वर्ष से अधिक उम्र के अति-वरिष्ठ नागरिकों के मामले में) से बढ़ाकर सभी वरिष्ठ नागरिकों के लिए 1 लाख रुपये कर दी गई

- प्रधानमंत्री वय वंदना योजना की अवधि मार्च 2020 तक बढ़ाने का प्रस्ताव। मौजूदा निवेश सीमा को प्रति वरिष्ठ नागरिक के लिए 7.5 लाख रुपये की मौजूदा सीमा से बढ़ाकर 15 लाख रुपये करने का प्रस्ताव