Blog single photo

UNGA में इमरान किस मुंह से उठाएंगे कश्मीर मुद्दा, UNHRC में पाक की बड़ी हार

भारत की कूटनीति के कारण पाकिस्तान को लगातार बेइज्जत होना पड़ रहा है। अब तो आलम ये है कि संयुक्त राष्ट्र जैसे अंतर्राष्ट्रीय मंच पर पाकिस्तान की बेइज्जती आम हो गई है। संयुक्त राष्ट्र मानवाधिकार परिषद यानी UNHRC में कश्मीर मसले पर पाकिस्तान की इसबार फिर भारी फजीहत हुई है

न्यूज 24 ब्यूरो, नई दिल्ली (20 सितंबर): भारत की कूटनीति के कारण पाकिस्तान को लगातार बेइज्जत होना पड़ रहा है। अब तो आलम ये है कि संयुक्त राष्ट्र जैसे अंतर्राष्ट्रीय मंच पर पाकिस्तान की बेइज्जती आम हो गई है। संयुक्त राष्ट्र मानवाधिकार परिषद यानी UNHRC में  कश्मीर मसले पर पाकिस्तान की इसबार फिर भारी फजीहत हुई है। कश्मीर मसले पर भारत को प्रस्ताव पेश करने गीदड़ भभकी देने वाला पाकिस्तान को इसके लिए जरूरी समर्थन तक हांसिल नहीं कर पाया। जानकारी के मुताबिक ज्यादातर सदस्य देशों ने कश्मीर पर प्रस्ताव रखने के लिए पाकिस्तान को समर्थन करने से इनकार कर दिया।

दरअसल, कश्मीर पर प्रस्ताव पेश करने की आज आखिरी तारीख थी, लेकिन पाकिस्तान UNHRC में प्रस्ताव तक नहीं पेश कर पाया।  प्रस्ताव पेश करने के लिए पाकिस्तान को कम से कम 16 देशों के समर्थन की जरूरत थी। लेकिन दुनिया के सामने कश्मीर पर घड़ियालू आंसू बहाने वाले पाकिस्तान के झांसे में कोई नहीं आया। UNHRC में इस्लामी सहयोग संगठन (ओआईसी) के 15 देश हैं। पाकिस्तान को उम्मीद थी कि वह इसके बाद समर्थन जुटा लेगा। कश्मीर के मुद्दे पर एक संयुक्त बयान के प्रबंधन के बाद भी इस्लामाबाद वोट नहीं जुटा पाया।

आपको बता दें कि जिनेवा में UNHRC का 42 वां सत्र चल रहा है। पाकिस्तान के विदेश मंत्री शाह महमूद कुरैशी ने इस्लामाबाद से जिनेवा के लिए रवाना होने से पहले कश्मीर पर प्रस्ताव का दंभ भर रहे थे। नियम कहता है कि किसी भी देश के प्रस्ताव पर कार्रवाई करने से पहले न्यूनतम समर्थन की जरूरत होती है। पाकिस्तान ने इससे पहले 10 सितंबर को UNHRC को कश्मीर की स्थिति पर एक संयुक्त बयान सौंपा था। इसमें उसने 60 देशों के समर्थन की बात कही थी, लेकिन कौन से देश समर्थन कर रहे हैं, इसको वो नहीं बता पाए।

(Image Credit: Google)

Tags :

NEXT STORY
Top