हमने हमेशा मित्रता की पहल की और हमें बदले में उरी मिला: सुषमा स्वराज

न्यूयॉर्क (26 सितंबर): यूएन में विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने आतंकवाद पर कड़ा प्रहार करते हुए कहा कि दुनिया इससे जूझ रहा है। उन्होंने पठानकोट, उरी, इंस्ताबुल और सीरिया में हुए आतंकी हमलों का उदाहरण दिया।  

सुषमा स्वराज के भाषण के मुख्य अंश:

पाकिस्तान को भारत पर उंगली उठाने से पहले बलूचिस्तान को देखना चाहिए। बहादुर अली जिंदा सबूत है हमारे पास कि सीमा पार से आतंकवादी आया है। अगर पाकिस्तान यह समझता है कि इस तरह के भड़काऊ बयान देकर वह भारत से कोई हिस्सा छीन सकता है तो उनका यह सपना कभी पूरा नहीं होगा। जम्मू-कश्मीर भारत का अभिन्न हिस्सा है और रहेगा। आतंकवाद मानवअधिकारों का सबसे बड़ा उल्लंघन निर्दोष लोगों को मारता है। आतं‍कवादियों को पनाह देने वाले कौन है। कहां से उन्हें हथियार और धन देता है। ऐसे ही सवाल अफगानिस्तान में भी उठे। जिससे इस आतंकवाद का बीज बोया है, उससे उसका फल मिला है। छोटे-छोटे समूहों ने बड़ा रूप धारण कर लिया है। आतंकवाद को जड़ से उखाड़ने के लिए एकजुट होकर पसंद और नापसंद अलग रखना होगा। यदि कोई देश इस रणनीति में शामिल नहीं होना चाहता तो हम उसे अलग-थलग कर दें। दुनिया में कई ऐसे देश हैं जो बोते हैं आतंकवाद और पालते हैं तो आतंकवाद। ऐसे देशों को चुना जाना चाहिए, जहां संयुक्त राष्‍ट्र ने जिने आतंकवादी घोषित किया है, वह खुलेआम भाषण करते हैं।

एक साल पहले से आज दुनिया में काफी बदलाव आय़ा है। हमारे सामने सबसे बड़ी चुनौती है, विश्व के कोने-कोने में फैली गरीबी को मिटाना। स्वच्छ भारत अभियान के तहत दो लाख स्कूलों में चार लाख शौचालय बने हैं। स्त्री और पुरुषों के बीच लैंगिक समानता हो। भारत दुनिया में सबसे तेजी से बढ़ने वाली अर्थव्यवस्था है। मेक इन इंडिया से देश में निवेश बढ़ा है इससे गरीबों को रोजगार मिल रहा है। शांति के बगैर दुनिया में विकास संभव नहीं है। योग को अपार समर्थन मिलने के लिए आपका आभार। दुनियाभर में आतंकवादी गतिविधियों की खबरों से स्पष्ट है कि हम इससे निपटने में सफल नहीं हुए हैं। हमने हमेशा मित्रता की पहल की और हमें बदले में उरी और पठानकोट मिला।

हमें ऐसी संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद चाहिए जो वैश्विक परिस्थिति के अनुकूल हो। संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद में स्थाई और अस्थाई दोनों सीटों में बढोत्तरी हो। सुषमा ने UNGA में कहा कि 1996 से लंबित सीसीआईटी पारित किया जाए।

सुषमा ने UNGA में पाकिस्तान को जवाब देते हुए कहा कि आप सपना देखना छोड़ दीजिए।

वीडियो: [embed]https://www.youtube.com/watch?v=BGU3J_tZzBk[/embed]