दाऊद के ठिकानों पर UN की मुहर, अब विदेशी सम्पत्ति पर कसेगा शिकंजा

नई दिल्ली (25 अगस्त): भारत ने अंडरवर्ल्ड डॉन दाऊद इब्राहिम के जिन ठिकानों की जानकारी साझा की थी, उन पर संयुक्त राष्ट्र ने अपनी मुहर लगा दी है। संयुक्त राष्ट्र ने भी उन पतो की पुष्टि कर दी है। भारतीय एजेंसियों को इसके बाद भरोसा आ गया है, कि वे इस अंतर्राष्ट्रीय आतंकी को पकड़ने में अब जरूर कामयाब होंगी। इसके लिए विदेशों में उसके आर्थिक लेनदेनों पर रोक लगाई जा सकती है।

- गौरतलब है, दाऊद का नाम संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद की आईएस और अलकायदा सैंक्शन्स कमिटी की सूची में शामिल है। - इस सूची में अन्य आतंकी अयमान अल जवाहिरी, अबू-बकर अल बदगादी व अन्य भी शामिल हैं। - पिछले 23 सालों से भारतीय खुफिया एजेंसियां 1993 के मुंबई विस्फोटों के आरोपी अंडरवर्ल्ड डॉन दाऊद इब्राहिम के बारे में जानकारियों की तलाश में जुटी हैं। - वहीं पाकिस्तान अपनी जिद्दी नीति 'जानकारी नहीं होने' पर अड़ा हुआ है।  - पाकिस्तान ने कभी भी डॉन की मौजूदगी के बारे में स्वीकार नहीं किया ना ही कभी उन अनुमानों पर प्रतिक्रिया दी, कि इसकी अपनी एजेंसियां ही उसे देश में छत देने में मदद कर रही हैं।   - 1993 में मुंबई विस्फोटों को अंजाम देकर सैकड़ों को मौत के मुंह में भेजने के बाद दाऊद भारतीय न्याय व्यवस्था को धता देकर फरार है।  - ऐसा सामने आया कि वह कराची और दूसरी जगहों पर सुरक्षित जिंदगी जी रहा है।  - भारतीय एजेंसियों रॉ, सीबीआई, आईबी, एनआईए और शहर की पुलिस पिछले 23 साल से भारत के मोस्ट वांटेड आतंकी की तलाश में जुटी हैं।  - उन्होंने पासपोर्ट, फोन नंबर जैसी जानकारियां जुटाई हैं। - एजेंसियों ने दाउद की आवाजाही की भी जानकारियां जुटाई हैं, जो कराची और दुबई के बीच ज्यादातर होती हैं।