क्रिकेट छोड़ना चाहता था टीम इंडिया का ये 'खतरनाक' गेंदबाज


नई दिल्ली(3 अप्रैल): टीम इंडिया ने अपने होम सीजन में शानदार प्रदर्शन किया। टीम के इस प्रदर्शन में तेज गेंदबाज उमेश यादव का अहम रोल रहा। हालांकि इस तेज गेंदबाज को अगर उसकी वाइफ सही सलाह नहीं देती तो आज ये खिलाड़ी क्रिकेट नहीं खेल रहा होता। आपको बता दें कुछ समय पहले उमेश क्रिकेट छोड़ घर बैठने के बारे में सोचने लगे थे। टीम इंडिया में उमेश कभी अंदर तो कभी बाहर होते रहते थे। उनकी इस सिचुएशन को देखकर उनकी वाइफ ने उन्हें प्रैक्टिस जारी रखने का प्रेशर बनाना शुरू कर दिया।


- उमेश कहते हैं, पहले मैं टीम में रेग्युलर नहीं था। टीम से अंदर-बाहर होता रहा। कभी विकेट लेता, कभी नहीं ले पाता। लेकिन जब 2013 में मेरी शादी तान्या से हुई, तब मेरे अंदर अपने परफॉर्मेंस को लेकर समझ बढ़ गई।


- आपको पता होता है कि कोई ऐसा भी है जो किसी भी सिचुएशन में आपका साथ देने के लिए तैयार है।


-शादी के बाद जब तान्या ने शुरू के दो-तीन साल तक मेरे परफॉर्मेंस को देखा, तो मुझे टोकना शुरू किया। उसने मुझसे कहा कि तुम अच्छा कर रहे हो और मेहनत भी। लेकिन तुम और मेहनत कर सकते हो और इससे परफॉर्म भी। वह मुझसे कहती कि तुम्हारे पास काबिलियत है। लेकिन तुम उसका सही यूज नहीं कर रहे हो।


- उमेश ने बताया, एक समय ऐसा भी आया था, जब मुझे लगने लगा था कि अब ट्रेनिंग छोड़कर घर बैठ जाऊं। उस समय तान्या ने समझाया कि कोई छुट्‌टी नहीं लेनी है। प्रैक्टिस पर जाना है, तो जाना है।


- उमेश ने कहा कि मैं बंक भी नहीं मार सकता था। न ही प्रैक्टिस पर लेट हो सकता था। यही तुम्हारी जॉब है। यही जुनून है। इसे हासिल करो। किसी खास के मुंह से ऐसी बातें सुनकर मुझे अहसास हुआ कि क्रिकेट ही मेरी जिंदगी है।


-  उमेश ने कहा कि मैंने फैसला किया कि सबकी नजरों में तो ठीक पहले वाइफ की नजरों में ऐसा बनूं कि उसे लगे कि मुझमें काबिलियत है। इसके बाद मैंने मेहनत शुरू की। मैंने खुद को साबित किया।'


- अपनी शादी के बारे में उमेश ने बताया, ‘हम कॉमन फ्रेंड के जरिए मिले थे। दो साल डेटिंग करने के बाद शादी करने का फैसला किया।’


- अपनी लगातार अच्छी होती परफॉर्मेंस का श्रेय वे वाइफ तान्या वाधवा को देते हैं। उनके अनुसार शादी के बाद वे बहुत मेच्योर हुए हैं।