ब्रिटेन चुनाव: बहुमत गंवाने के बावजूद सरकार बनाना चाहतीं हैं टेरीजा मे

लंदन (9 मई): ब्रिटेन में हुए मध्यावधि चुनाव में मौजूदा प्रधानमंत्री टेरीजा मे की कंजर्वेटिव पार्टी को बड़ा झटका लगा है। उनकी पार्टी संसद में बहुमत की बरकरार रखने में नाकाम रही है। इससे ब्रेग्जिट वार्ता से पहले अनिश्चितता की नई स्थिति पैदा हो गई है। ब्रेजिक्ट  समर्थक रहे टेरीजा ने कैमरून के बाद प्रधानमंत्री बनी थीं और उनकी पार्टी के कुछ सांसद ब्रेजिक्ट के खिलाफ थें। जिसके बाद टेरीजा मे संसद में अपनी ताकत बढ़ाना चाहती थी। लेकिन उनका दांव उनपर ही उलटा पड़ गया। 

दरअसल टेरीजा मे ने संसद में अपनी ताकत बढ़ाने को लेकर मध्यावधि चुनावों की घोषणा की थी। लेकिन अब उनका ये दाव उनपर ही उलटा पड़ गया है। वहीं चुनावों के नतीजे उनके पक्ष में नहीं आने पर विपक्षी पार्टियों न उनपर इस्तीफे का दवाब बढ़ा दिया है। आपको बता दें कि जुलाई 2016 में टेरीजा ने प्रधानमंत्री का पद संभाला था।

मिल रही जानकारी के मुताबिक बहुमत गंवाने और विपक्ष के इस्तीफे की मांग के बावजूद टेरीजा मे प्रधानमंत्री पद से इस्तीफा नहीं देंगी और सरकार बनाने के लिए महारानी एलिजाबेथ द्वितीय से भी मुलाकात कर सकती हैं।