उज्जैन: विश्व प्रसिद्ध ज्योतिर्लिंग महाकाल में सबसे पहले दिवाली, पांच दिन तक चलता है उत्सव

भोपाल(29 अक्टूबर): विश्व प्रसिद्ध ज्योतिर्लिंग महाकाल में पांच दिन तक चलने वाली दिवाली उत्सव की शुरुआत आज हो गई। राजाधिराज भगवान महाकाल के आंगन में आज रूपचौदस पर दिवाली मनेगी। 

- ज्योतिर्लिंग महाकाल में धन त्रयोदशी से सुहाग पड़वा तक पांच दिन दिवाली मनाने की परंपरा है। पहले दिन पुरोहित समिति द्वारा पूजन का आयोजन किया जाता है। तड़के अन्नकूट लगाने के बाद, सुबह 7.30 बजे होने वाली भस्मारती में भगवान को अभ्यंग स्नान कराया जाएगा। शाम को 7 बजे होने वाली आरती में भी पुजारी आतिशबाजी करेंगे।

- पं.महेश पुजारी व पुजारी प्रदीप गुरु ने बताया मंदिर की परंपरा अनुसार भगवान महाकाल को सबसे पहले अन्न्कूट लगाया जाता है। इस दिन पुजारी भगवान के साथ फूलझड़ी चलाकर दिवाली मनाते हैं।

- पुरोहित चांदी के सिक्के न्यौछावर करते हैं। चैत्र और कार्तिक में मौसम के अनुसार भगवान की दिनचर्या बदलती है। इसलिए कार्तिक प्रतिपदा से मंदिर में दो आरती का समय भी बदलेगा।