गूगल ने मोबाइल में सेव किया था UIDAI नंबर, मानी गलती

न्यूज 24 ब्यूरो, नई दिल्ली (4 अगस्त): लोगों के मोबाइल फोन में अचानक भारतीय विशिष्ट पहचान प्राधिकरण यानी UIDAI के नाम से एक टोल फ्री हेल्पलाइन नंबर सेव हो गया, जिसके बाद से सोशल मीडिया पर हंगामा होने लगा और लोग UIDAI की आलोचना करने लगे, मगर मोबाइल फोन में UIDAI के नाम से नंबर सेव होने के मामले में गूगल ने अपनी जिम्मेवारी ले ली है। गूगल ने यह कबूल कर लिया है कि लोगों के मोबाइल फोन में दिखने वाले नंबर में उसकी गलती है। उसकी गलती की वजह से लोगों के फोन में यह नंबर दिखा।आपको बता दें कि इससे पहले UIDAI के ऊपर सवाल उठ रहे थे, मगर बाद में उसने कहा कि उसने किसी फोन निर्माता या दूरसंचार सेवा प्रदाता को मोबाइल फोन में अपना टोल-फ्री हेल्पलाइन नंबर पहले से डालने के लिए नहीं कहा है। प्राधिकरण ने यह भी स्पष्ट किया कि एंड्रायड फोन में पाया जा रहा हेल्पलाइन नंबर 1800-300-1947 पुराना और अमान्य है।

आपका मोबाइल हैक हो रहा है । आपके मोबाइल में आधार कार्ड जारी करने वाली UIDAI का पुराना टोल फ्री नंबर अपने आप सेव हो गया है। आप अपना मोबाइल नंबर निकालिए और फोन कॉल में जाइए और टाइप कीजिए UIDAI।  अगर ये टाइप करते हीं टोल फ्री नंबर आ जाए तो बस समझ लीजिए आपके मोबाइल का सारा कंटेक्ट डाटा कोई देख रहा है । हालांकि इस मामले में UIDAI ने अपनी सफाई भी पेश की है।
 
क्या आपका मोबाइल हैक हो गया है... ये सवाल आज उस हर हिंदुस्तानी के जहन में है जो एंड्रॉयड स्मार्टफोन इस्तेमाल करता है। क्योंकि ये टोल फ्री नंबर सही नहीं है। ये नंबर काफी वक्त पहले बंद हो चुका है लेकिन सर्विस में मौजूद नहीं होने के बावजूद लोगों के फोनबुक में ये कैसे पहुंचा अभी राज बना हुआ है। अगर आप एंड्रॉयड स्मार्टफोन इस्तेमाल करते हैं तो ये नंबर आपको कॉन्टैक्ट लिस्ट में दिखाई दे सकता है। ये कैसे हुआ किसी को नहीं पता ना फोन यूजर्स को ...ना UIDAI को और ना सेलुलर ऑपरेटर्स एसोसिएशन ऑफ इंडिया को। यहां तक की साइबर एक्सपर्ट्स भी हैरान हैं। हमने अपने खास शो नेशनल न्यूज सेंटर में साइबर एक्सपर्ट पवन दुग्गल से इस बारे में जानने की कोशिश तो वो भी इस अजीबओगरीब वाकया से हैरान थे..दुग्गल ने इसे साइवर सुरक्षा में बड़ी सेंधमारी करार दिया।

ज्यादा जानकारी के लिए देखिए न्यूज 24 की ये खास रिपोर्ट...