UIDAI का बड़ा आरोप, कहा- गूगल और स्मार्ट कार्ड कंपनियां नहीं चाहती भारत में सफल हो आधार

नई दिल्ली (18 अप्रैल): भारतीय विशिष्ठ पहचान प्राधिकरण यानी UIDAI ने गूगल और स्मार्ट कार्ड कंपनियों पर बड़ा आरोप लगाया है। UIDAI ने सुप्रीम कोर्ट में आधार मामले की सुनवाई के दौरान चौंकाने वाला आरोप लगाया। आधार कार्ड की संरक्षक UIDAI ने कहा कि गूगल और स्मार्ट कार्ड लॉबी आधार को सफल नहीं होना चाहते थे क्योंकि यूआईडी पहचान प्रमाणित करने के लिए एक आसान तरीके के रूप में उभर रहे हैं, जिसके बाद वे बिजनेस से बाहर होंगे। इसके साथ ही UIDAI ने योजना के तहत एकत्रित डाटा को चुनाव में फायदा लेने के लिए मतदाताओं की प्रोफाइल बनाने की आशंका को भी सिरे से खारिज कर दिया। वहीं कोर्ट ने इस बात की आशंका जताई कि आधार के लिए ली गई जानकारी सुरक्षित है या नहीं। 

UIDAI ओर से पेश वरिष्ठ वकील राकेश द्विवेदी ने कहा कि आधार की व्यवस्था फेसबुक, गूगल से अलग है। यह इन कंपनियों की तरह यूजर्स की गणना करने वाली व्यवस्था नहीं है। UIDAI किसी को भी डेटा तक पहुंच नहीं देता। बल्कि केवल हां या नहीं में अनुरोधों को प्रमाणित करता है। साथ ही द्विवेदी ने दावा किया कि स्मार्ट कार्ड कंपनियां अपने वाणिज्यिक हितों की वजह से आधार योजना को सफल नहीं देखना चाहती है। अगर भारत में आधार का प्रयोग सफल हुआ, तो उनका कारोबार ठप हो जाएगा। उन्होंने कहा, सिंगापुर पहले ही बायोमेट्रिक आधारित पहचान पत्र की ओर रुख कर चुका है। द्विवेदी ने कहा, वह चाहते हैं कि भारतीय यूआईडीएआई पर भरोसा करें और प्राधिकरण आश्वस्त करता है कि उनका डेटा सुरक्षित है।