दशहरा रैली: उद्धव का पीएम पर निशाना, बोले- हर साल आता है रावण, लेकिन राम मंदिर नहीं आता

न्यूज 24 ब्यूरो, नई दिल्ली (18 अक्टूबर): मुंबई के शिवाजी पार्क में शिवसेना की दशहरा रैली में पार्टी अध्यक्ष उद्धव ठाकरे ने बीजेपी और महाराष्ट्र सरकार पर जमकर हमला किया। राम मंदिर के मुद्दे उन्होंने कहा रावण हर साल आता है लेकिन राम मंदिर नहीं आता। भागवत का स्वागत, मोदी पर तंज राम मंदिर के मुद्दे पर उद्धव ठाकरे ने कहा कि रावण हर साल आता है लेकिन राम मंदिर नहीं आता। पीएम मोदी का नाम लिए बिना ठाकरे ने कहा कि धनुष और बाण उठाने के लिए कुछ इंच की छाती नहीं, हिम्मत चाहिए।

उन्होने कहा कि वे राम मंदिर पर मोहन भागवत के बयान के लिए बधाई देते हैं। उन्होंने जो कहा है हम कई सालों से कहते आ रहे हैं। उद्धव ने कहा कि वे 25 नवंबर को अयोध्या जाएंगे। जो सवाल आज मैं कर रहा हूं, वहीं मैं अयोध्या में पीएम मोदी से पूछूंगा। जनता की भावनाओं से मत खेलिए। अगर उन्होंने उम्मीद खो दी तो आपका सिंहासन मिट्टी में मिल जाएगा। पीएम कई देशों में जाते हैं लेकिन अयोध्या एक बार भी नहीं गए। मोदी और फडणवीस पर निशाना शिवसेना प्रमुख ने बीजेपी की तरफ इशारा करते हुए कहा कि आपके पास भगवान विष्णु के 11वें अवतार हैं फिर भी आप बढ़ती कीमतें क्यों नहीं रोक पा रहे हैं। और यदि आप नहीं रोक सकते तो आप सत्ता में क्यों हैं? 

उन्होंने कहा कि इतने साल बाद भी बीजेपी के किसी नेता में अनुच्छेद 370 खत्म करने का बात कहने की हिम्मत नहीं है। मैं घोषणा करता हूं संसद में प्रस्ताव लाइए हम समर्थन करेंगे। उद्धव ठाकरे ने महाराष्ट्र की फडणवीस सरकार पर निशाना साधते हुए कहा कि राज्य में सूखे पर अभी विचार-विमर्श ही चल रहा है, वहीं कर्नाटक ने आगे बढ़कर ऋण माफी की घोषणा कर दी। हमारे मुख्यमंत्री वैसी इच्छाशक्ति क्यों नहीं दिखाते? अगर सरकार इसपर फैसला नहीं करेगी तो हम सरकार के खिलाफ सड़कों पर उतरेंगे।

उद्धव ठाकरे ने रैली को संबोधित करते हुए कहा कि वे याद दिलाना चाहते है कि देश के हिंदू अभी जिंदा हैं। जिस समय हिंदुत्व की बात कोई नहीं करता था तब बाला साहेब ही थे जिन्होंने हिंदुत्व का उद्घोष किया था। उन्होंने कहा कि कई लोग आए शिवसेना को खत्म करने की कोशिश की। आज हम उन्हें चुनौती देते हैं, देखते हैं, कौन आता है। संघ भी करने लगा बीजेपी की आलोचना उद्धव ठाकरे ने कहा कि लोग कहते हैं कि शिवसेना सरकार के खिलाफ बोलती है, लेकिन अब तो आरएसएस भी बोल रहा है।