वैष्णो देवी जाने वालों के लिए खुशखबरी, ताराकोट मार्ग का ट्रायल रन शुरू

नई दिल्ली (14 मई): अगर आप वैष्णो देवी मंदिर के दर्शन करने जाने वाले हैं तो आपके लिए एक खुशखबरी है। कटरा से अर्धकुंवारी तक 7 किलोमीटर के नए ताराकोट मार्ग का ट्रायल रन शुरू हो गया है। रविवार को श्रद्धालुओं के पहले जत्थे ने नए मार्ग से गुज़रते हुए मां के दर्शन किए। ताराकोट मार्ग कई लिहाज़ से बेहद खास है।ताराकोट मार्ग पर श्रद्धालुओं के लिए कई व्यू पॉइंट बनाए गए हैं, जहां श्रद्धालु रुककर आराम भी कर सकते हैं और प्राकृतिक सुंदरता का लुत्फ भी उठा सकते हैं। इस नए रास्ते को बनाते वक्त श्रद्धालुओं का खास ख्याल रखा गया है। ताराकोट मार्ग पर घोड़ों को जाने की अनुमति नहीं है। इस मार्ग पर सिर्फ और सिर्फ पैदल यात्रा करने वाले श्रद्धालु ही जा सकेंगे, जिससे श्रद्धालु बेहद खुश हैं।7 किलोमीटर के ताराकोट मार्ग पर श्रद्धालुओं के लिए कई सुविधाओं का इंतज़ाम किया गया है। ताराकोट ट्रैक की सबसे खास बात ये है कि ये पूरा रास्ता शेडिड है। मतलब ये कि श्रद्धालुओं को अब धूप, बारिश या भूस्खलन की चिंता करने की ज़रूरत नहीं है। लगभग हर एक किलोमीटर पर खाने-पीने की व्यवस्था की गई है। 6 फूड आउटलेट्स संचालित किए जाएंगे, जिसमें नियंत्रित कीमतों पर खाने का सामान मिलेगा।साथ ही ताराकोट मार्ग पर 16 वॉटर कूलर लगाए गए हैं, जिससे यात्रियों को पीने का साफ पानी मिलेगा। इसके अलावा इस मार्ग की एक और खास बात ये है कि आपातकाल की स्थिती में इस ट्रैक पर आसानी से एंबुलेंस और आपदा प्रबंधन की गाड़ियां जा सकेंगी।श्राइन बोर्ड ने इसकी खूबसूरती पर खास ध्यान रखते हुए ताराकोट मार्ग पर 3 फ्लोटिंग फाउनटेन बनाए गए हैं। ताराकोट मार्ग कड़ी सुरक्षा व्यवस्था की गई है। यहां तैनात सुरक्षाकर्मी किसी भी तरह के आतंकी हमले से निपटने के लिए तैयार हैं। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी 19 मई को ताराकोट मार्ग का आधिकारिक तौर पर उद्घाटन करेंगे, लेकिन उससे पहले ही श्राइन बोर्ड ने मार्ग को श्रद्धालुओं के लिए खोल कर ट्रायल रन शुरू कर दिया है।हर साल मां के लाखों भक्त माता के दर्शन के लिए वैष्णो देवी आते हैं। अभी तक जहां कठिन रास्तों से होकर भक्त माता वैष्णो देवी के दर्शन कर पाते थे, लेकिन अब नया रास्ता बन जाने से बच्चों और बुजुर्गों की यात्रा बेहद सुलभ हो जाएगी और भक्त आसानी से माता के दर्शन कर सकेंगे।