महाराष्ट्र में भी खाली हाथ शिवसेना, मंत्रिमंडल विस्तार में शिवसेना को कैबिनेट में नहीं मिली एंट्री

मुंबई (8 जुलाई): शिवसेना को पहले केंद्र में खाली हाथ ही लौटना पड़ा और अब राज्य में हुए मंत्रिमंडल विस्तार में भी एक भी मंत्री पद नहीं मिला है। महाराष्ट्र के सीएम देवेंद्र फडणवीस ने शुक्रवार को अपने मंत्रीमंडल का विस्तार किया। उन्होंने 11 नेताओं को मंत्रिमंडल में शामिल किया। इनमें से 10 नए चेहरे हैं। इस विस्तार में शिवसेना के किसी नेता को कैबिनेट दर्जा नहीं मिला। इसी कारण से नाराज शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे शपथ समारोह में नदारद रहे।

बताया जा रहा है कि शिवसेना ने अपनी पार्टी के कई नेताओं को कैबिनेट मंत्री बनाने के लिए नाम भेजे थे। लेकिन, फडणवीस ने शिवसेना के केवल दो विधायकों को राज्यमंत्री का दर्जा दिया। 

ये है नए मंत्रियों की लिस्ट छह विधायकों ने कैबिनेट मंत्री के बतौर शपथ ली... > राम शिंदे को कैबिनेट मंत्री बनाया गया। पहले वो गृह राज्यमंत्री के पद पर थे। > मराठवाड़ा से विधायक अर्जुन खोतकर को कनिष्ठ मंत्री बनाया गया। > जलगांव से विधायक गुलाबराव पाटिल को कनिष्ठ मंत्री बनाया गया। > स्वाभिमानी पार्टी के सादाभाउ खोत को भी मंत्री बनाया गया। > राष्ट्रीय समाज पार्टी (आरएसपी) के महादेव जानकर ने भी शपथ ली है।   भाजपा के विधायकों में राज्य इकाई के पूर्व अध्यक्ष पांडुरंग फुंडकर, डौंडेचा (धुले) से विधायक जयकुमार रावल, निलांगा से सांभाजी पाटिल निलांगेकर और सोलापुर से विधायक सुभाष देशमुख शामिल हैं। भाजपा के विधायक रविंद्र चव्हाण और मदन येरावर ने राज्यमंत्री पद की शपथ ली है। राज्यमंत्री पद की शपथ लेने वाले पांच अन्य लोगों में शिवसेना के दो, भाजपा के दो और एक अन्य गठबंधन सहयोगी से है।