बारिश कराने के लिए आर्टिफिशियल पहाड़ बनाएगा यूएई

अबु धाबी (5 मई) :  बारिश की कमी की समस्या से निपटने के लिए संयुक्त अरब अमीरात (यूएई) एक बड़ा कदम उठाने जा रहा है।  यूएई इसके लिए कृत्रिम पहाड़ बनाने जा रहा है। रेगिस्तान से भरे इस देश में बड़े प्रोजेक्ट के सहारे पहाड़ बनाया जाएगा जिससे हवा का दबाव बढ़ेगा। यूएई को उम्मीद है कि इस अहम योजना से बादल बनेंगे और बारिश होगी।

दुबई के पब्लिकेशन अरबियन बिजनेस के अनुसार, यूएई इस बात के मूल्‍यांकन के शुरुआती स्‍तर पर है कि इंसानों के द्वारा बनाए गए पहाड़ से देश में बारिश कराने में कैसे मदद मिल सकती है। इसके लिए वह अमेरिकी नेशनल सेंटर फॉर एटमॉस्फिरिक रिसर्च (NCAR) के विशेषज्ञों से चर्चा भी कर रहा है। बारिश के लिए क्लाउड-सीडिंग तकनीक का सहारा लिया जाता है। इसके लिए बादल के ज़रिए बारिश की मात्रा और प्रकार में बदलाव किया जाता है।  

NCAR के रोइलॉफ ब्रुइंटजेस ने अरबियन बिजनेस को बताया कि हम यह पता करने की कोशिश कर रहे हैं कि किस तरह के पहाड़ से मौसम पर क्‍या प्रभाव पड़ेगा, यह कितना उंचा होना चाहिए और इसकी ढाल कितनी होनी चाहिए। पहले कदम के रूप में हम इस गर्मियों में इस बारे में पहले चरण की रिपोर्ट देंगे।

उन्‍होंने बताया कि अब तब दुबई ने चार लाख डॉलर इस आईडिया पर‍ रिसर्च के लिए खर्च किए हैं। मगर, इस परियोजना को पूरा करने में काफी अधिक कीमत चुकानी होगी। पहाड़ बनाना कोई आसान काम नहीं है।

बारिश के लिए पहाड़ अहम होते हैं। जैसे ही नम वायु पहाड़ों पर पहुंचती है, यह ऊपर उठने के लिए मजबूर होती है और ठंडी होकर यह तरल में बदलती है, जो आखिर में बारिश की बूंदों के रूप में नीचे गिरती है। इसका अर्थ है कि बारिश उस तरफ के पहाड़ी इलाकों में होगी, जहां से हवा टकराएगी और पहाड़ का दूसरा हिस्‍सा सूखा रहेगा।