अमेरिका ने ईरान से तेल खरीदने पर भारत समेत 8 देशों को दी छूट, कम हो सकते हैं दाम


न्यूज 24 ब्यूरो, नई दिल्ली ( 5 नवंबर ): अमेरिका ने भारत सहित आठ देशों को ईरान से तेल खरीदने को लेकर राहत की घोषणा की है। यह राहत कुछ समय के लिए ही लागू होगी। यह जानकारी सोमवार को अमेरिका के विदेश मंत्री माइक पॉम्पियो ने दी। इधर अमेरिका के इस फैसले के बाद भारत अब भारत एक और मोर्चे पर काम कर रहा है जिससे उसे फायदा मिल सकता है। 


भारत और ईरान बातचीत कर के कोई बीच का रास्ता तलाश करने की कोशिश कर रहे हैं, जिससे की तेलों की आयात में कोई दिक्कत ना आ सके। दोनों देश ऐसी व्यवस्था कायम करने पर काम कर रहे हैं जिससे की तेल आयात कने के बाद भारत इसका भुगतान अपने ही देश के बैंक में अपनी मु्द्रा रुपए में कर सके। बता दें कि ईरान से संबंध रखने पर अमेरिका के प्रतिबंध सोमवार से प्रभावी हो रहे हैं।

भारत यूको बैंक के एक अकाउंट में पेमेंट की पुरानी व्यवस्था को बहाल करेगा। यूको बैंक का अंतरराष्ट्रीय स्तर पर एक्सपोजर नहीं हैं इसलिए इसपर प्रतिबंधों का वैसा खतरा नहीं है। इससे पहले ईरान को दो हिस्सों में दो हिस्सों में बांट कर पेमेंट किया जाता रहा है। 45 फीसदी पेमेंट यूको बैंक के खाते में रुपये में किया जाता था, जबकि 55 फीसदी पेमेंट यूरो में होता था। इस बार ईरान सारा पेमेंट रुपये में ही लेगा।

गौरतलब है कि अमेरिका ने ईरान की बैंकिंग, एनर्जी और शिपिंग इंडस्ट्री पर प्रतिबंध लगाया था। जिन आठ देशों को इस प्रतिबंध से राहत दी गई है, उनमें चीन, भारत, ग्रीस, इटली, ताइवान, जापान, तुर्की और दक्षिण कोरिया शामिल हैं। पॉम्पियो ने कहा, 'हमने विशिष्ट परिस्थितियों के कारण कुछ हद तक देशों को अस्थाई आवंटन जारी करने का निर्णय लिया है।

पॉम्पियो ने कहा कि 20 देशों ने पहले ही ईरान से तेल खरीदना बंद कर दिया है। ईरान की तेल खरीद में 10 लाख बैरल प्रतिदिन की कमी आई है। इससे पहले ट्रंप प्रशासन की तरफ से कहा गया था कि उसने चीन और भारत समेत तुर्की, इराक, इटली, जापान और दक्षिण कोरिया से कहा है कि वह जितना जल्द हो सके ईरान से तेल खरीद को पूरी तरह बंद कर दें।

अमेरिकी विदेश मंत्री माइक पॉम्पियो से जब पूछा गया कि क्या भारत और चीन ने अमेरिका को यह भरोसा दिलाया है कि 6 महीने के भीतर वे ईरान से तेल खरीद पूरी तरह बंद कर देंगे तो वह इस सवाल को टाल गए। भारत और चीन, ईरान से कच्चे तेल के सबसे बड़े खरीदार हैं। ईरान के तेल और वित्तीय क्षेत्रों में अमेरिका के दंडात्मक प्रतिबंधों से अब तक ये देश बचे हुए हैं। एशिया के दोनों बड़े देश उन 8 देशों में शामिल हैं जिन्हें ईरान पर सोमवार से लागू हुए प्रतिबंधों से दुर्लभ छूट हासिल हुई है।

पॉम्पियो ने इससे पहले किसी देश का नाम न लेते हुए कहा था, 'देखिए हम क्या करते हैं। पहले के मुकाबले इस बार कहीं अधिक मात्रा में कच्चे तेल को हमने बाजार से हटा दिया है। उन प्रयासों को देखिए जो राष्ट्रपति ट्रंप की नीति से हासिल हुए हैं। हमने यह सब किया और साथ ही यह भी ध्यान रखा कि अमेरिकी उपभोक्ता इससे प्रभावित नहीं हों।'