मैथ टीचर निकला अलकायदा आतंकी, गुजरात से गया तक रची खौफनाक साजिश

नई दिल्ली (14 सितंबर): बिहार के बोधगया में पितृपछ के दौरान एक बड़ी आतंकी साजिश को बिहार पुलिस और बिहार की एटीएस टीम ने नाकाम कर दिया है।  बिहार के गया से दो संदिग्ध आतंकियों को गिरफ्तार किया गया है। इनमें से एक तौसीफ खान 2008 में हुए अहमदाबाद बम ब्लास्ट का मुख्य आरोपी है।  पकड़े गए आतंकी तौसीफ पठान के बारे में सनसनीखेज खुलासे हुए हैं। बताया जा रहा है कि अहमदाबाद सीरियल ब्लास्ट का आरोपी का ये आरोपी गणित का टीचर बनकर गया में रह रहा था। साल 2008 में अहमदाबाद में हुए सीरियल ब्लास्ट के बाद वह भाग कर गया आया था। 

एनआईए को इसकी तलाश थी। यह गया के करमैनी में नाम बदल कर रह रहा था जो बोधगया के पास है। गिरफ्तार किए गए दोनों आतंकियों के संबंध अलकायदा से भी हैं। वो अलकायदा के लिए स्लीपर सेल बनाने में लगा था। संदिग्ध आतंकियों का दिल्ली पुलिस द्वारा तैयार किए गए अलकायदा आतंकियों के स्कैच से मिलान हो रहा है, लेकिन गया के अधिकारी फिलहाल इसकी पुष्टि नहीं कर रहे हैं। तौसीफ अहमद खान के साथ ही सना खान नामक युवक को भी पकड़ा गया है जो करमैनी का रहने वाला है। 

इनके पास से जो आईडी मिली है वह गुजरात की है। दोनों युवकों से पुलिस लगातार पूछताछ कर रही है। ऐसी संभावना जताई जा रही है कि एनआईए भी इनसे पूछताछ कर सकती है। ये काफी दिनों से साइबर कैफे से कई तरह की जानकारी भेज रहे थे पुलिस को गुप्त सूचना मिली जिसके बाद दोनों को गिरफ्तार किया गया। 

जानकारी के मुताबिक, तौसीफ पठान पिछले कई वर्षों से गया के शाहदेव खाप इलाके में रह रहा था. वह यहां मैथ टीचर के रूप में जाना जाता था। बच्चों को मैथ का ट्यूशन पढ़ता था। पिछले दो तीन दिन से राजेन्द्र आश्रम मुहल्ला स्थित एक साइबर कैफे से नेट सफरिंग करता था। उसके पास से कई संदिगध वस्तुएं मिली हैं।  गया के कई मंदिरों के फोटो भी मिले हैं।