टीम इंडिया को हराने के बाद बोला वेस्टइंडीज का ये बल्लेबाज, कहा...

नई दिल्ली(2 अप्रैल): वर्ल्ड टी-20 के दूसरे सेमीफाइनल मुकाबले में भारत पर वेस्टइंडीज को जीत दिलाने में अहम भूमिका निभाने वाले लेंडल सिमन्स ने कहा कि अहम मौके पर भारतीय गेंदबाजों द्वारा की गई दो नो बॉल के कारण मैच का पासा पलट गया। सिमन्स ने अपनी टीम की जीत के बाद कहा, हां मेरा मानना है कि उन दो नो बॉल से पासा हमारे पक्ष में पलटा। यदि मैं आउट हो जाता तो शायद मैच का नजीता कुछ ओर हो सकता था। नया बल्लेबाज आता है और उसके बाद क्या होता आप नहीं बता सकते।

बता दें सिमन्स को दो जीवनदान मिले। जब वह 18 रन पर थे तब अश्विन की गेंद पर जसप्रीत बुमराह ने उनका कैच ले लिया था लेकिन यह नोबाल निकल गई। इसके बाद दाएं हाथ का यह बल्लेबाज जब 50 रन पर खेल रहा था तब भी कैच ले लिया गया था लेकिन पंड्या की गेंद नोबाल निकल गई। जानसन चार्ल्स ( 52) की तारीफ करते हुए सिमन्स ने कहा कि इस सलामी बल्लेबाज ने उन पर से दबाव हटाया।

उन्होंने कहा, उसने काफी दबाव हटाया। उसने परिस्थितियों का अच्छा आकलन किया और उसके अनुसार बहुत अच्छी बल्लेबाजी की। सिमन्स ने कहा कि गुरुवार के मैच से पहले वह थोड़ा बैचेन थे। उन्होंने कहा, जब मैं बल्लेबाजी के लिए उतरा तो मेरे दिमाग में यह बात साफ थी कि मुझे क्या करना है क्योंकि हमें लक्ष्य का पीछा करना था इसलिए हमारी रणनीति थी। मैच से पहले मैं थोड़ा नर्वस था। मैं थोड़ा दबाव में था क्योंकि यहां मैं एक भूमिका निभाने आया था लेकिन कुल मिलाकर अच्छा रहा। हमें लक्ष्य हासिल करना था और हम इसमें सफल रहे। सिमन्स ने कहा, आज मेरा दिन था। भाग्य ने मेरा साथ दिया और चीजें वैसी ही हुई जैसी मैं चाहता था।

सिमन्स ने कहा कि 193 रन का लक्ष्य सफलतापूर्वक हासिल करने से पता चलता है कि वेस्टइंडीज एक खिलाड़ी पर निर्भर नहीं है। क्रिस गेल नहीं चल पाए लेकिन हम तब भी लक्ष्य हासिल करने में सफल रहे और स्कोर काफी बड़ा था। गेल नहीं चला और हम तब भी लक्ष्य हासिल कर गएजिससे हमारे खिलाडिय़ों के जज्बे का पता चलता है।

सिमन्स ने कहा कि खिलाड़ी कोलकाता में होने वाले फाइनल को लेकर आत्ममुग्ध नहीं हैं। उन्होंने कहा, कोलकाता की परिस्थितियां भिन्न होंगी। यह आज के विकेट की तरह बल्लेबाजों के अनुकूल नहीं होगा। आईपीएल में मुंबई इंडियन्स की तरफ से खेलने वाले 31 वर्षीय बल्लेबाज ने कहा कि इस टूर्नामेंट में खेलने से एक खिलाड़ी के रूप में निखरने में उन्हें मदद मिली। उन्होंने कहा, निश्चित तौर पर इसने मुझे एक बेहतर खिलाड़ी बनाया। आईपीएल में इन पिचों पर खेलने से भिन्न स्ट्रोक्स खेलने और भिन्न परिस्थितियों से तालमेल बिठाने में मदद मिली।