जानिए, जयपुर में मॉडल स्कूल बना यह मदरसा क्यों है एक मिसाल

नई दिल्ली (11 अप्रैल): जयपुर के रामगंज में संकरी गलियों से घिरे इलाके में एक स्कूल है। जिसका नाम है- रहमानी मॉडल स्कूल। यह सिर्फ अपने नाम से ही नही बल्कि हकीकत में भी एक मॉडल है। बता दें, एक वक़्त था जब यह स्कूल एक मदरसा हुआ करता था। लेकिन अब इस स्कूल में 1,300 छात्र पढ़ते हैं। जो कि अल्पसंख्यक समुदाय से ताल्लुक रखते हैं। आपको जानकर हैरानी हो सकती है, लेकिन यह सच है कि इसके प्रिंसिपल एक हिंदू हैं। जिनका नाम है- कैलाश चंद्र यादव। 

'टाइम्स ऑफ इंडिया' की रिपोर्ट के मुताबिक यह स्कूल अल्पसंख्यक बहुल इलाके में अपने आप में सामुदायिक समरसता के एक अनूठा उदाहरण पेश करता है। इस स्कूल के प्रधानाचार्य कैलाश चन्द्र यादव कभी राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ (आरएसएस) के कार्यकर्ता हुआ करते थे। इस स्कूल की खास बात यह है कि यहाँ सभी छात्र मध्यवर्गीय और मुस्लिम समुदाय से आते हैं। स्कूल के बोर्ड में भी सभी सदस्य मुस्लिम समुदाय से आते हैं। स्कूल में अभी तक 63 में से 9 शिक्षक और प्रिंसिपल हिन्दू रह चुके हैं।  

कैलाश चन्द्र यादव का कहना है कि उनके सामने सबसे बड़ी चुनौती उन लोगों को समझाना है जो "आर्थिक हालात ठीक ना होने की वजह से अभी भी मानते हैं कि उनके लिए तालीम अहम नही है।" उनका कहना है कि आदर्श विद्या मंदिर से सीधे मुस्लिम स्कूल में पढ़ाना शुरुआत में उनके सामने चुनौती थी। लेकिन उनका मानना है कि शिक्षा में धर्म कोई रुकावट नही है।