सउदी अरब स्पेशल: खाना बनाने वाले तैल से सड़कों पर दौड़ेंगी गाड़ियां

नई दिल्ली (14 फरवरी): अबु धाबी के कचरा निस्तारण केंद्र 'तदवीर'ने रसोई में इस्तेमाल होने वाले कुकिंग ऑयल से बायो डीज़ल बनाना शुरु कर दिया है। कुकिंग ऑयल से बनने वाला ये डीज़ल परंपरागत डीज़ल से काफी सस्ता और अच्छा है। इस डीज़ल से कार्बन भी काफी कम निकलता है। रसोई के कुकिंग ऑयल वेस्ट को इकट्ठा करने और उससे बायो डीज़ल बनाने का काम अबु धाबी के अल राहा में शुरु किया गया है।

कुकिंग ऑयल वेस्ट को रिसाइकिल करने और उसको बायो डीज़ल में कनवर्ट करने की परियोजना में मसदार इंस्टीट्यूट,'तदवीर'को टेक्नीकल सपोर्ट कर रहा है। 'गल्फ न्यूज़ डॉट कॉम'ने 'तदवीर'के जनरल मैनेजर ईसा सैफ अल क़ुबैसी के हवाले से लिखा है कि कुकिंग ऑयल वेस्टेज को इकट्ठा करने के लिए स्कूली छात्र-छात्राओं का योगदान लिया जा रहा है। क़ुबैसी ने कहा कि कुकिंग ऑयल वेस्ट से सीवरेज चोकिंग भी बढ़ रही थी। अबु धाबी को अब इस समस्या से भी निजा़त मिल जायेगी। कुकिंग ऑयल वेस्ट से बनने वाला बायो डीज़ल, ग्रीन फ्यूल है। इसका मतलब यह है कि इस बायो डीज़ल से चलने वाले वाहन प्रदूषण से मुक्त होंगे।