एर्दोगान को खुश करने के लिए नवाज़ शरीफ ने तु्र्की टीचर्स को पाक से निकाला

नई दिल्ली (16 नवंबर):  पाकिस्तानी प्रधानमंत्री नवाज़ शरीफ ने ट्रंप के शपथ लेने से पहले ही अमेरिका के खिलाफ अपने रुख को स्पष्ट कर दिया है। नवाज़ शरीफ ने फतह उल्लाह गुलेन के स्कूलों को बंद करने और उनमें पढ़ाने वाले 108 टीचर्स को परिवार समेत पाकिस्तान छोड़ने का फरमान सुना दिया है। दरअसल, तुर्की के राष्ट्रपति एर्दोगान पाकिस्तान आ रहे हैं। एर्दोगान फतह उल्लाह गुलैन को असफल तख्ता पलट का जिम्मेदार मानते हैं। इसलिए नवाज़ शरीफ ने एर्दोगान को खुश करने के लिए पाकिस्तान में चल रहे गुलैन के स्कूलों को बंद करने और टीचर्स को देश छोड़ने का फैसला किया। पाकिस्तानी-तुर्क अंतरराष्ट्रीय स्कूल-कॉलेज प्रशासन सरकार द्वारा अचानक उठाए गए इस कदम के कारण बेहद चिंतित हैं।