12 साल का आत्मघाती हमलावर

नई दिल्ली(22 अगस्त): तुर्की में सीरिया की सीमा सटे गाजियांटेप शहर में एक विवाह समारोह के दौरान शनिवार को हुए आत्मघाती धमाके में कम से कम 51 लोगों की मौत हो गई। माना जा रहा है कि इस हमले को आईएस के एक आत्मघाती हमलावर ने अंजाम दिया, जो 12 से 14 साल का था।

- तुर्की के राष्ट्रपति रेसेप तैयप एदार्ेगन ने राष्ट्रीय टेलीविजन पर बताया कि हमलावर की उम्र 12 से 14 साल के बीच थी। एर्दोगन ने कहा, यह स्पष्ट है कि आईएस का गाजियांटेप में ऐसा एक संगठन है या हाल-फिलहाल उसने जगह बनाने की कोशिश की। कई गहन अभियान चलाए गए हैं और चलाए जा रहे हैं। बेशक हमारे सुरक्षा बल कहीं अधिक गहनता से अभियान चला रहे हैं।

- एर्दोगन ने कहा, अमेरिका में रह रहे उपदेशक फतहुल्ला गुलेन के समूह, कुर्दिस्तान वर्कर्स पार्टी (पीकेके) और आईएस में कोई अंतर नहीं है। प्रतिबंधित पीकेके ने 15 जुलाई को तख्ता पलट की नाकाम कोशिश की थी। गाजियांटेप के गवर्नर अली येर्लिकाया ने कहा, हमले की साजिश रचने वालों और इसे अंजाम देने वालों की हम निंदा करते हैं। इसके लिए जिम्मेदार लोगों पर कार्रवाई की जाएगी।

- प्रधानमंत्री बिन अली यिलदिरीम ने कहा, गाजियांटेप अब भी वही भावना दिखाएगाा, जो उसने 1921 में तुर्की के स्वतंत्रता संग्राम में फ्रांसीसी बलों को हराते हुए दिखाई थी। हमारा दुख बड़ा है लेकिन हमें अपनी एकता और एकजुटता पर भरोसा है। हम इन सभी हमलों को नाकाम करेंगे। तुर्की में हुए इस ताजा हमले ने नाटो के इस अहम सदस्य देश को हिला कर रख दिया है। उसके लिए यह साल भयावह रहा, जहां 15 जुलाई को तख्तापलट की कोशिश में खून-खराबा हुआ। इस साल कई आतंकी हमलों से भी यहां के नागरिकों को जूझना पड़ा है।