पगड़ी में स्कूबा डाइविंग कर इस युवक ने बनाया अनोखा रिकॉर्ड


लुधियाना (25 अप्रैल): सिख धर्म में पगड़ी का बड़ा ही महत्व है। सिख धर्म के लोग पगड़ी को अपनी जान से ज्यादा सम्मान देते हैं। पगड़ी का धार्मिक महत्व का अंदाजा इसी बात से लगया जा सकता है कि भारतीय फौज में सिखों को हेलमेट न पहनने की छूट है। यहां तक कि सीमा पर युद्ध के दौरान भी वे अपनी पगड़ी में लड़ने जाते हैं, हेलमेट में नहीं। लेकिन भारी तादाद में सिख युवा आजकल पगड़ी पहनना छोड़ रहे हैं।

इन सबके कई ऐसे सिख युवा भी हैं जो पगड़ी के प्रति अपने समुदाय के युवाओं में जागरुकता फैला रहे हैं। ऐसे ही 30 साल के लुधियाना के एक शख्स हैं हरजिंदर सिंह कुकरेजा।  पिछले दिनों कारोबारी हरजिंदर सिंह एक सप्ताह के दौरे पर तुर्की गए थे। यहां उन्होंने पगड़ी के साथ स्कूबा डाइविंग कर रिकॉर्ड बनाया।

इससे पहले जनवरी 2015 में हरजिंदर अपने ऑस्ट्रेलिया दौरे के दौरान पगड़ी में स्काइडाइविंग करने का अनोखा रिकॉर्ड बनाया। कुकरेजा ने कहा कि उन्होंने अपनी पगड़ी पर 32 किलोग्राम का हैलमेट पहन डूबकी लगाई। कुकरेजा की माने ये उनके लिए एक अनोखा अनुभव और एहसास था।

कुकरेजा का कहना है कि वो दुनिया को यह बताना चाहते हैं कि पगड़ी उनकी पहचान है और किसी भी चीज में कोई बाधा नहीं है।